Bihar Election

मतगणना के समय काउंटिंग सेंटर में गए थे जेडीयू सांसद, चुनाव आयोग ने मांगी सीसीटीवी फुटेज

जेडीयू सांसद पर मतगणना के दौरान काउंटिंग सेंटर में जाने का आरोप है। इसकी जांच के लिए चुनाव आयोग ने काउंटिंग सेंटर की सीसीटीवी फुटेज मांगी है। वहीं मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने जिले के डीएम को खत भी लिखा है।

मोदी जी ने चिराग पासवान को JDU और औवैसी को हमारे पीछे लगा दिया, डिबेट में बिहार में हार पर बोले कांग्रेस प्रवक्ता

कांग्रेस प्रवक्ता आलोक शर्मा ने कहा ” जिस तरह से मोदीजी ने चिराग पासवान को जेडीयू के पीछे लगाया, वैसे ही औवैसी को हमारे पीछे लगाया। उनका मैनेजमेंट अच्छा था और उन्होने पूरी तरह से हर हथकंडा अपनाते हुए लोकतंत्र की हत्या की। यह भी सच है।”

ब‍िहार चुनाव: पोस्‍टल बैलेट की हेराफेरी से हमें हराया, सीसीटीवी न‍िकालो- तेजस्‍वी यादव ने चुनाव आयोग पर उठाया सवाल

प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए राजद नेता तेजस्वी यादव ने चुनाव आयोग पर गंभीर आरोप लगाए हैं। चुनाव आयोग पर सवाल उठाते हुए तेजस्वी ने कहा कि पोस्‍टल बैलेट की हेराफेरी से हमें हराया गया है।

महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध के बावजूद भाजपा को मिला वोट, नीतीश को नहीं, डिबेट में बोलीं कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत

बिहार में इस बार जेडीयू को मात्र 43 सीटें मिलीं। कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि बिहार में महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़े इसके बावजूद लोगों ने बीजेपी को वोट किया। नीतीश कुमार को नहीं।

बिहार चुनाव में जीतने वाले इकलौते निर्दलीय को जानिए- पत्नी और बेटी को मारकर खुद मर जाने वाले पूर्व विधायक का भाई बना MLA

बिहार में केवल एक ही निर्दलीय प्रत्याशी को जीत नसीब हुई है और वह हैं सुमित सिंह। उन्होंने चकाई विधासभा सीट से जीत हासिल की है। उनके विधायक भाई ने 2010 में पत्नी औऱ बेटी को मारकर खुदकुशी कर ली थी।

कभी फिल्मों का सेट डिजाइन करते थे ‘सन ऑफ मल्लाह’ मुकेश सहनी, सियासत में मिली पटखनी

Bihar Election Result 2020: बिहार की राजनीति में ‘सन ऑफ मल्लाह’ के नाम से प्रसिद्ध मुकेश सहनी सिमरी बख्तियारपुर से चुनावी मैदान में उतरे थे। सिमरी बख्तियारपुर सीट पर मुकेश सहनी को…

जाति, कैश स्कीम से लेकर इन 5 कारणों के चलते बिहार में एनडीए ने हासिल की फतह

बिहार में लगभग सभी एग्जिट पोल गलत साबित हुए हैं। एनडीए गठबंधन ने बिहार चुनाव में महागठबंधन को पीछे छोड़ दिया और बहुमत का आंकड़ा हासिल कर लिया। बिहार में एनडीए ने न केवल एग्जिट पोल को गलत साबित कर दिया बल्कि 15 साल की इनकंबेंसी को भी नकार दिया। इस जीत के पीछे कौन […]

बिहार का जनादेश नीतीश के पक्ष में नहीं, कांग्रेस बोली- सीडब्ल्यूसी करेगी प्रदर्शन की समीक्षा

बिहार विधानसभा चुनाव में राजग 125 सीटें हासिल करके एक बार फिर से सरकार बनाने जा रहा है। राजद की अगुवाई वाले महागठबंधन को 110 सीटों से ही संतोष करना पड़ा। इस गठबंधन में 70 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली कांग्रेस को सिर्फ 19 सीटों पर जीत मिली।

बिहार से लेकर गुजरात तक सबसे बड़ी लूजर बनी कांग्रेस, जीती सीटें भी गंवा दीं

बिहार सहित अन्य राज्यों में हुए चुनाव में भी कांग्रेस को नुकसान उठाना पड़ा है। इन चुनावो में कांग्रेस सबसे पड़ी लूजर पार्टी साबित हुई है। जहां उसकी सीटें पहले से थीं, पार्टी ने वह भी गंवा दीं।

बिहार चुनाव: योगी आदित्यनाथ से ज़्यादा स्ट्राइक रेट जेपी नड्डा का, तेजस्वी का केवल 50 प्रतिशत

बिहार चुनाव में पीएम मोदी ने 12 रैलियां कीं और टारगेट विधानसभा क्षेत्र में 9 सीटों पर जीत हासिल हुई। इस तरह उनका स्ट्राइक रेट 75 फीसदी है। वहीं तेजस्वी यादव का स्ट्राइक रेट केवल 50 फीसदी ही रहा।

बिहार विधानसभा में इस बार सबसे ज्यादा बुजुर्ग और दागी, टूटा 15 साल का रिकॉर्ड

बिहार में इस बार दागियों और बुजुर्गों ने जीत के मामले में सारे रेकॉर्ड तोड़ दिए हैं। 66 प्रतिशत दागी प्रत्याशी चुनकर विधानसभा पहुंचे हैं तो वहीं 58 विधायक ऐसे हैं जिनकी उम्र 61 के पार है।

लोकसभा 2019 की तुलना में हर विधानसभा चुनाव में गिरा है एनडीए का वोट शेयर, बिहार में 12% घटा मत

बिहार में एनडीए को बहुमत तो हासिल हो गया है लेकिन आंकड़ों के मुताबिक गठबंधन को 2019 के आम चुनाव के मुकाबले 12 फीसदी वोटों का नुकसान उठाना पड़ा। इसी तरह जिन राज्यों में भी 2019 के बाद चुनाव हुए वहां एनडीए के वोट शेयर में कमी देखी गई है।

बिहार चुनाव परिणाम: एलजेपी 1/137, 20 साल में सबसे ख़राब प्रदर्शन, पर नीतीश का नुकसान करने में कामयाब रहे चिराग पासवान

बिहार में एनडीए को बहुमत मिल गया है वहीं एलजीपी का प्रदर्शन पिछले 20 साल में सबसे खराब रहा। इसे 137 में से केवल एक सीट पर जीत हासिल हुई। हालांकि चिराग ने नीतीश कुमार का अच्छा खासा नुकसान कर दिया।

सवाल: क्या महागठबंधन को नुकसान पहुंचाया कांग्रेस ने!

कांग्रेस के खराब प्रदर्शन की वजह स्पष्ट साफ तौर पर उसकी लचर स्थिति और तैयारी को माना जा रहा है। कांग्रेस की तैयारी पूरे राज्य में कहीं नहीं थी। संगठन के स्तर पर पार्टी बिल्कुल तैयार नहीं थी। पार्टी के पास ऐसे उम्मीदवार ही नहीं थे जो मजबूती से लड़ सकें। महागठबंधन में 70 सीटें लेने वाली कांग्रेस को 40 उम्मीदवार तय करने में भी मुश्किल आई थी।

दस्तक: ओवैसी ने कांग्रेस व राजद की उम्मीदों पर पानी फेरा

बिहार में ओवैसी की पार्टी के पास केवल एक सीट थी। इसके साथ ही ओवैसी के गठबंधन में शामिल बीएसपी ने भी एक सीट पर जीत हासिल की है। अब आगे का सवाल यह है कि ओवैसी आगे किसके साथ जाएंगे। या फिर वे अकेले चलेंगे। ओवैसी राजग के साथ नहीं जाएंगे। ऐसे में उनके पास ये विकल्प हो सकता है कि वह तेजस्वी की मदद करें। लेकिन तेजस्वी और कांग्रेस ओवैसी की पार्टी को वोटकटवा कहते रहते हैं।

सत्ता समर: नीतीश को तीसरे नंबर पर सिमटा दिया ‘चिराग की लौ’ ने

विश्लेषण: प्रधानमंत्री मोदी के ‘स्वयंभू हनुमान’ ने वोट काटे और भाजपा बन गई पहले नंबर की पार्टी, बिहार-राजग में चिराग के बागी तेवर ने राजद नीत महागठबंधन के सपनों पर भी पानी फेरा, चिराग ने जद (एकी) कोटे की सीटों पर अपने अधिकतर उम्मीदवार उतारे।

Bihar Election में PLURALS की पुष्पम प्रिया न दिखा पाईं कमाल, मिले NOTA से भी कम वोट; कहा- BJP ने की धांधली

बिहार में एनडीए को बढ़त मिल रही है। अब PLURALS की नेता पुष्पम प्रिया ने बीजेपी पर वोटों की धांधली का आरोप लगाया है। पुष्पम प्रिया को नोटा से भी कम वोट मिले हैं।

यूपी का वो बाहुबली जिसे पुलिस ने घोषित कर दिया था मरा, दोस्त के साथ एनकाउंटर में जान जाते-जाते बची थी

बनारस की सड़कों पर अभय और धनंजय के गैंग के बीच खुलेआम गोलियां चलीं। अभय सिंह द्वारा किए गए ‌इस हमले में बाहुबली धनंजय सिंह बाल-बाल बचे थे।

ये पढ़ा क्या?
X