ताज़ा खबर
 

bihar chamki fever

चमकी बुखार: लीची खाने से नहीं होता इंसेफलाइटिस, एक्सपर्ट बताते हैं ये तीन अहम कारण

AES: “लीची के भीतर मौजूद टॉक्सीन लीवर टॉक्सीन लेवल को असामान्य कर देता है। जबकि AES मरीजों का लीवर टॉक्सीन हाई रहता है। हमारे यहां आने वाले 80 फीसदी मरीजों ने लीची नहीं खाई थी।”

death

Bihar: महज 120 मिनट में मरीज की जान ले लेता है चमकी बुखार, डॉक्टर बोले- इससे ज्यादा नहीं मिलता वक्त

डॉक्टर कहते हैं कि जब चमकी से पीड़ित मरीज अस्पताल आता है, तब हमारे पास उसकी जान बचाने के लिए सिर्फ 120 मिनट होते हैं।

Khesari Lal Yadav बच्चों का हाल जानने पहुंचे मुजफ्फरपुर के अस्पताल, लोग लेने लगे सेल्फी

खेसारी लाल यादव को फैंस की भारी भीड़ के चलते एसकेएमसीएच अस्पताल से बाहर निकालने में खासी परेशानी हुई। इसके बाद पुलिस फ़ोर्स को बुलवाकर हालात को काबू किया गया।

Bihar: चमकी बुखार का कहर जारी, पीड़ित बच्चों पर अब विकलांगता का खतरा

पटना एम्स की टीम द्वारा की गई इस स्टडी में पता चला है कि इस बीमारी की वजह से बच्चों के दिमाग पर असर पड़ रहा है।

SKMCH में केंद्रीय मंत्री के साथ बदसलूकी, हाथ झटक कर निकले बाहर, एयरपोर्ट पर भी दिखाए गए काले झंडे

SKMCH में केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री और बिहार के बीजेपी नेता अश्विनी चौबे जैसे ही पहुंचे, वहां हंगामा शुरू हो गया। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चौबे के सामने मरीजों के परिजनों ने हंगामा किया।