article 35a and 370

Article 370 पर केंद्र के फैसले के बाद 144 नाबालिग हिरासत में लिए गए! J&K शासन ने कबूला

कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि प्रदेश में 9 से 17 साल के बीच की उम्र के 144 नाबालिगों को कानून के साथ संघर्ष के चलते गिरफ्तार किया गया।

अहमदाबाद के स्कूलों को फरमान- पीएम मोदी के जन्मदिन पर आर्टिकल 370 पर करें कार्यक्रम

सर्कुलर में कहा गया है कि ‘आर्टिकल 370 और 35ए के तहत भारतीय संसद ने एक सराहनीय और जनता की भलाई का कदम उठाया है, जिसे लोगों द्वारा काफी सराहा जा रहा है।

J&K: कश्मीरी दोस्त को छुड़ाने के लिए लड़ रहा यह विश्व हिंदू परिषद नेता, बोला- इंसानियत से काम लीजिए

चार अगस्त की रात से यानी जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों के निरस्त होने और प्रदेश को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने से पहले सैकड़ों लोगों को घाटी में जगह-जगह पर हिरासत में लिया गया। इनमें अलगाववादी, मुख्यधारा के राजनेता, सामाजिक कार्यकर्ता, ट्रेड एसोसिएशन के नेता और पत्थरबाज शामिल हैं।

ARTICLE 370: अब बीजेपी से ही उठी मांग- J&K में बाहरियों के जमीन खरीदने और नौकरियों पर लगे बंदिशें

भाजपा नेताओं को लगता है कि राज्य में मौजूदा प्रतिबंधों को पूरी तरह से हटाए जाने से पहले भूमि कानूनों और नौकरियों के बारे में आशंकाओं को दूर करने की आवश्यकता है। यह इन आशंकाओं की वजह है कि जम्मू में भी उत्साह उतना नहीं रहा जितना अनुच्छेद 370 के हटने के बाद उम्मीद थी।

संपादकीयः हताशा के कदम

पाकिस्तान जानता है कि उसके इन कदमों का भारत पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उसके द्विपक्षीय व्यापार खत्म कर देने से भारत का नहीं, ज्यादा नुकसान उसी का होने वाला है। जब भारत ने कुछ दिनों पहले पाकिस्तान का तरजीही राष्ट्र का दर्जा खत्म कर दिया था और वहां से आने वाली कुछ वस्तुओं पर कर लगा दिया था तो वह बहुत हताश हुआ था।

What is Article 35A: क्या है अनुच्छेद 35ए जिसका ‘तोड़’ निकालने में जुटी मोदी सरकार!

What is Article 35A in Kashmir: सरकार के एक सूत्र ने बताया कि कई पहाड़ी राज्यों में कृषि भूमि बेचने के मामले कई समस्याएं हैं। इस लिए इसमें से बाहर रखा जा सकता है। लेकिन बिजनेस और अन्य कार्यों के लिए जमीन को बेचा जा सकता है।

जम्मू-कश्मीर में 25000 और जवान भेजे जाने की खबर, जिला स्तर पर बड़ी तैनाती की तैयारी

कुछ दिन पहले जब 10 हजार जवानों को जम्मू कश्मीर में भेजे जाने की बात सामने आयी थी, तब सरकार की तरफ से कहा गया था कि आगामी विधानसभा चुनावों के चलते यह तैयारियां की जा रही हैं।