amavasya 2020

Sarva Pitru Amavasya 2020: इस स्तोत्र के पाठ से तृप्त होते हैं पितृ देव, जानिये इस दिन का क्या है महत्व

पितरों को तृप्त करने के लिए श्राद्ध, दान और उपाय आदि किए जाते हैं। माना जाता है कि सर्वपितृ अमावस्या की शाम को गजेन्द्र मोक्ष स्तोत्र का पाठ करने से पितरों की तृप्ति होती है। सर्वपितृ अमावस्या की शाम इसका पाठ जरूर करना चाहिए।

सर्वपितृ अमावस्या के दिन ये 5 काम करने से पितृ दोष लगने की है मान्यता, जानिये

Sarvapitra Amavasya 2020 : पितृ पक्ष के अंतिम दिन को सर्वपितृ अमावस्या (Sarvapitra Amavasya) कहा जाता है। इस दिन भूले-बिसरे सभी पितरों के लिए तर्पण किया जाता है, इसलिए ही इस अमावस्या को सर्वपितृ (Sarvapitru Amavasya) कहा गया है।

कब है सर्वपितृ अमावस्या? जानिये क्यों है इतनी खास और क्या है मान्यता

इस साल सर्वपितृ अमावस्या 17 सितंबर, बृहस्पतिवार की है। सर्वपितृ अमावस्या को आश्विन अमावस्या, बड़मावस और दर्श अमावस्या भी कहा जाता है।

Bhadrapada Amavasya: जानें भाद्रपद अमावस्या का महत्व, तर्पण से पितृदोष से मुक्ति मिलने की है मान्यता

Pithori Amavasya: हिंदू धर्म में भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अमावस्या का महत्व बहुत अधिक है। इस अमावस्या को कुशग्रहणी या पिठोरी अमावस्या भी कहा जाता है।

Somvati Amavasya 2020: सोमवती अमावस्या की पूजा विधि, महत्व, कथा, मुहूर्त और सभी जानकारी यहां देखें

Somvati Amavasya 2020: सोमवती अमावस्या के दिन भगवान शिव, पार्वती, गणेशजी और कार्तिकेय की पूजा की जाती है। इस दिन जलाभिषेक करना भी विशेष रूप से फलदायी बताया गया है।

Amavasya In July 2020: कब है हरियाली अमावस्या? जानिए महत्व, पूजा विधि और मुहूर्त

Sawan Amavasya 2020 Date: श्रावण मास की अमावस्या को हरियाली अमावस्या (Hariyali Amavasya) के नाम से भी जाना जाता है। जब अमावस्या सोमवार के दिन पड़ती है तो उसे सोमवती अमावस्या (Somvati Amavasya) कहते हैं। पूवर्जों की आत्मा की तृप्ति के लिए इस दिन श्राद्ध रस्मों को करना उपयुक्त माना जाता है।

Jyeshtha Amavasya 2020: ज्येष्ठ अमावस्या आज, जानिये पूजा विधि, मुहूर्त, कथा और महत्व

Jyeshtha Amavasya 2020 Date, Significance, Puja Vidhi: इस दिन नदियों और तालाबों में स्नान करने की मान्यता है। हालांकि कोरोना संकट के चलते नदियों में लोग स्नान के लिए नहीं जा पायेंगे। इसलिए घर पर ही रहकर ही आपको पूजा पाठ से जुड़े सारे काम करने होंगे। शनि दोष निवारण के लिए भी ये दिन खास माना गया है। उत्तर भारत में तो ज्येष्ठ अमावस्या विशेष रूप से सौभाग्यशाली एवं पुण्य फलदायी मानी जाती है।

IPL 2020 LIVE
X