2002 gujarat riots

गुजरात दंगे: सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को फटकारा, कहा- दो हफ्ते में बिलकिस बानो को दीजिए 50 लाख रुपए, नौकरी, मकान

शीर्ष अदालत ने 23 अप्रैल को राज्य सरकार को निर्देश दिया था कि दो हफ्ते के भीतर बिल्किस बानो को मुआवजे की राशि का भुगतान किया जाए।

गुजरात दंगों के कभी बन गए थे चेहरे, अशोक मोची ने खोली दुकान, फीता काटने पहुंचे कुतुबुद्दीन अंसारी

लोकसभा चुनाव के दौरान अशोक मोची और कुतुबद्दीन अंसारी ने केरल में वाम दल के उम्मीदवार पी. जयराजन के लिए चुनाव प्रचार भी किया था।

‘अंधेरे में भारतीय लोकतंत्र’, उम्रकैद की सजा काट रहे बर्खास्त आईपीएस संजीव भट्ट ने लिखी इमोशनल चिट्ठी

बता दें IPS अधिकारी रहे संजीव भट्ट को नौकरी से सस्पेंड कर दिया गया था। हाल ही में उन्हें एक 30 साल पुराने कस्टोडियल डेथ के केस में सजा सुनाई गई है।

मोदी के खिलाफ बोलने की सजा मिली- उम्रकैद काट रहे संजीव भट्ट की पत्नी का आरोप

गुजरात कैडर के आईपीएस अफसर रहे भट्ट ने गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी के 2002 के गुजरात दंगों को हैंडल करने के तरीके पर सवाल उठाए थे। उन्हें 2011 में सस्पेंड कर दिया गया था।

2002 दंगे: बिलकिस बानो गैंगरेप केस को बिगाड़ने पर पुलिसवालों पर SC सख्त, गुजरात सरकार को दिया 2 हफ्ते का वक्त

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार को दो सप्ताह का समय दिया है कि बिलकिस बानो संग बलात्कार के मामले में जांच से छेड़छाड़ में न्यायालय द्वारा दोषी ठहराए गए पुलिस वालों के खिलाफ अनुशासनात्मक कर्रवाई करे।

2002 गुजरात दंगों में पुलिस-प्रशासन की विफलता पर पूर्व उपराष्‍ट्रपति हामिद अंसारी ने उठाए सवाल

अंसारी ने पूछा, “अगर कानून-व्‍यवस्‍था की इतनी बड़ी विफलता का जवाब देने में सिविल और पुलिस प्रशासन नाकाम है तो लोकतांत्रिक व संसदीय व्‍यवस्‍था में जिम्‍मेदारी किसकी है?”

सुप्रीम कोर्ट ने बंद की गुजरात दंगों से जुड़े मामलों की मॉन‍िटरिंग, SIT पूरा करेगी काम

सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात राज्य में साल 2002 में हुए दंगों के संबंध में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की तरफ से 15 साल पहले दा​खिल मामले की निगरानी को बंद कर दिया है। ये याचिका गुजरात दंगों से जुड़े मामलों की सुनवाई राज्य से बाहर करवाने के लिए दायर की गई थी।

2002 Naroda Patiya case: तीन दोषियों को 10-10 साल की सजा, जनसंहार में मारे गए थे 97 लोग

गुजरात हाई कोर्ट ने 16 साल बाद नरोदा पाटिया नरसंहार मामले में फैसला सुनाया। कोर्ट ने उमेश भरवाड़, पदमेंद्र सिंह राजपूत और राजकुमार चौमल के खिलाफ 10-10 साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। इन पर एक-एक हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

गुलबर्ग सोसायटी नरसंहारः सजा पर बहस पूरी, 13 को तय होगी फैसले की तारीख

गुजरात (2002) में गुलबर्ग सोसायटी में हुए नरसंहार मामले की सुनवाई कर रही विशेष एसआइटी अदालत संभवत: सोमवार (13 जून) को मामले में सजा सुनाने की तारीख तय करेगी।

विवेक बनकर विक्रम के घर पल रहा मुजफ्फर, गुलबर्ग सोसाइटी नरसंहार के बाद लापता हुआ था 2 साल का बच्चा

विक्रम ने लड़के के बारे में अपनी पत्नी वीना को बताया। वीना ने मुजफ्फर को किसी अनाथ आश्रम में भेजने की जगह खुद अपने ही पास रख लिया। वीना ने लड़के का नाम बदलकर विवेक रख दिया।

गुलबर्ग सोसाइटी नरसंहार के बाद से लापता अजार की मां बोलीं- यकीन नहीं होता की बीजेपी पार्षद बिपिन पटेल रिहा हो गया

रूपा ने कहा, ‘मैं अभी भी रातों को सो नहीं पाती। सोसाइटी के बाहर पुलिस की व्यवस्था है अच्छे पड़ोसी हैं फिर भी कुछ ही दूरी पर अमित शाह के बंगले के होने से डर लगता है। ‘

शोमा चौधरी ने कहा- लूप होल के चलते तहलका में नहीं छपा था गुजरात दंगों पर राणा अय्यूब का स्टिंग

शोमा ने कहा कि अय्यूब की ओर से राजनीतिक दबाव में खबर न छापने की बात कहना पूरी तरह से भटकाने वाला है।

बुक लॉन्‍च में राजदीप सरदेसाई बोले- एक वरिष्‍ठ जज ने गुजरात दंगों पर कहा था मुसलमान बदलेगा नहीं

पत्रकार राणा अय्यूब की गुजरात दंगों पर स्टिंग ऑपरेशन को लेकर किताब ‘गुजरात फाइल्‍स- अनाटॉमी ऑफ ए कवर अप’ में दावा किया है कि कई अधिकारियों ने 2002 दंगों और फर्जी मुठभेड़ों में राजनीतिक दबाव की बात मानी थी।

राणा अय्यूब की किताब में दावा- आईपीएस ने गुजरात दंगों से जोड़ा था नरेंद्र मोदी और अमित शाह का नाम

पत्रकार राणा अय्यूब ने गुजरात दंगों पर अपने स्टिंग ऑपरेशन को लेकर ‘गुजरात फाइल्‍स: एनाटॉमी ऑफ ए कवर अप’ नाम से किताब लॉन्‍च की है।

गुजरात दंगों के स्टिंग पर राणा अय्यूब की किताब लॉन्‍च, बोलीं- तहलका ने राजनीतिक दबाव में स्‍टोरी नहीं छापी

पत्रकार राणा अय्यूब की गुजरात दंगों पर स्टिंग ऑपरेशन को लेकर किताब ‘गुजरात फाइल्‍स- अनाटॉमी ऑफ ए कवर अप’ में दावा किया है कि कई अधिकारियों ने 2002 दंगों के समय राजनीतिक दबाव की बात मानी थी।

गुजरात दंगा: 14 साल बाद पैरोल पर गया तो लौटा ही नहीं आरोपी, कोर्ट से कहा- फैसले के बाद आऊंगा

यह देश में अपनी तरह की पहली घटना है। इस घटना के बाद गुजरात में 2002 के गुलबर्ग सोसाइटी नरसंहार केस का एक और आरोपी लापता हो गया है।

जानिए 2002 के गुजरात दंगों और 1984 के सिख दंगों पर क्या बोले JNU छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया

जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने विश्वविद्यालयों में हो रहे कथित हमलों की तुलना गुजरात दंगों से करते हुए आरोप लगाया कि दोनों को सरकारी मशीनरी के ‘समर्थन से’ अंजाम तक पहुंचाया जा रहा है।

13 साल बाद गोधरा दंगों का बदला लेने की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार हुआ बनारस का अबरार

गुजरात दंगों का बदला लेने के मामले में अबरार का भाई असलम भी गिरफ्तार हुआ था लेकिन 5 साल पहले कोर्ट ने उसे रिहा कर दिया है।

ये पढ़ा क्या?
X