December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

VIDEO: शिकार के बाद शेर के साथ क्लिक कर रहे थे तस्वीरें, तभी पहुंच गया दूसरा शेर

इस वीडियो को यूट्यूब पर अभी तक करीब एक करोड़ लोग देख चुके हैं।

शिकार के बाद मरे हुए शेर के साथ पोज देते शिकारी। (Photo Source: Youtube)

इस वीडियो में दो ट्रॉफी हंटर(एक महिला और एक पुरुष) एक मरे हुए शेर के पास बैठे हुए नजर आ रहे हैं। इस शेर को इन शिकारियों ने थोड़ी देर पहले ही गोली मारकर ढेर किया है। शेर के पास यह जोड़ा तस्वीर के लिए पोज देता नजर आ रहा है। महिला के हाथ में एक बंदूक है। दोनों काफी खुश नजर आ रहे हैं। लेकिन तभी पुरुष शिकारी कैमरे को चैक करने के लिए जाता है। इतने में एक दूसरा शेर पीछे से आ जाता है, शेर के बिल्कुल नजदीक आने पर महिला शिकारी की नजर उसकी ओर जाती है। तभी वह चिल्लाकर भागने लगती है। लेकिन शेर भी उनके पीछे भागता है। शिकारी वहां पास में खड़ी कार की तरफ भागते हैं। लेकिन इसके बाद की तस्वीरें कैमरे में कैद नहीं हुई। लेकिन महिला की चिल्लाने की आवाज जरूर सुनाई देती है। यह पता नहीं लग पाया कि उसके बाद क्या हुआ। वीडियो को यूट्यूब पर Jayden Taner नाम के यूजर ने अपलोड किया है। वीडियो को #StopTrophyHunting हैशटेग के साथ अपलोड किया गया है।

हालांकि, इसकी पुष्टि नहीं है कि यह वीडियो असली है या फिर प्लान किया हुआ था। यूट्यूब पर जो वीडियो अपलोड किया गया है, उसके साथ लिखा गया है, ‘मुझे यह वीडियो उस वक्त मिला, जब कुछ महीने पहले मैं दक्षिण अफ्रीका गया था। वहां पर एक शिकारी ने मुझे यह वीडियो दिखाया। वीडियो में मैंने जो देखा, वह काफी चिंताजनक था, इसकी ओर पूरी दुनिया का ध्यान जाना चाहिए। अफ्रीका में हर साल ट्रॉफी हंटर हजारों जंगली जानवरों का शिकार करते हैं। हमें इसे रोकना होगा। पर्यटकों के शिकार के लिए जानवरों को कैद करके रखा जाता है। यहां पर जानवरों का शिकार करने के लिए काफी ऊंची कीमत वसूली जाती है। हमें इस मामले को लेकर जागरूकता फैलानी चाहिए। हमें वाइल्डलाइफ को बचाना होगा।’

यहां देखें वीडियो-

वीडियो 7 जून 2016 को यूट्यूब पर अपलोड़ किया गया था। अभी तक इस वीडियो को करीब एक करोड़ लोग देख चुके हैं। यूट्यूब पर इस वीडियो पर सात हजार से ज्यादा कमेंट भी आए हैं। जहां कुछ लोगों ने इस वीडियो को फर्जी बताया हा, वहीं कुछ एक यूजर्स ने कहा कि इस पर रोक लगाई जानी चाहिए।

वीडियो में देखें- राज्यसभा में नोटबंदी पर मनमोहन सिंह बोले- “फैसले के खिलाफ नहीं, लेकिन इसे लागू करने के तरीके से असहमत”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 24, 2016 2:04 pm

सबरंग