ताज़ा खबर
 

जूतों पर हीरे जड़वा पहनने का इस महारानी को था शौक, एक बार में ही मंगा लेती थीं 100 जोड़ी

यह शाही शौक रखने वाली महारानी थीं- इंदिरा राजे। साल 1892 में पैदा हुई थीं और बड़ौदा की राजकुमारी...

अक्सर राजाओं के शौक पर बात होती है। उनकी पसंद-नापसंद और दिलेरी के किस्से दोहराए जाते हैं। लेकिन रानियां भी शाही शौक के मामले में उनसे पीछे नहीं थीं। वे भी अपनी साज-सज्जा, फैशन सेंस और जीवनशैली को लेकर कॉन्शियस रहती थीं। ऐसी ही एक महारानी थीं, जिन्हें हीरे-मोती से जड़े जूतों का बड़ा शौक था। वह एक बार में 100 जोड़ी जूते मंगा लेती थीं। यह शाही शौक रखने वाली महारानी थीं- इंदिरा राजे। साल 1892 में पैदा हुई थीं और बड़ौदा की राजकुमारी थीं। कूच बिहार के महाराजा जीतेंद्र नारायण से उनकी शादी हुई थी। 1930 में वहां की महारानी बनीं। सब इंदिरा देवी कहकर पुकारते थे। जयपुर की महारानी गायत्री देवी इन्हीं की बेटी थीं। इंदिरा अपने शाही शौक के लिए जानी जाती थीं।

जूते। हां, वे जूते ही थे, जो उन्हें खूब लुभाते थे। लेकिन ऐसे वैसे या साधारण जूते नहीं। बेशकीमती हीरे-मोती जड़े हुए। 20वीं शताब्दी में जाने-मानी जूते-चप्पल बनाने वाले डिजाइनर थे फेर्रागामो। वह उन्हीं से ऐसे खास जूते बनवाया करती थीं। एक बार में 100 जोड़ी जूतों का ऑर्डर देतीं, जिनमें कुछ पर बेशकीमती रत्न जड़े होते थे। आज सालवातोर फेर्रागामो (Salvatore Ferragamo) शूमेकिंग में बड़े ब्रांड के तौर पर स्थापित है।

इटली के मशहूर जूता बनाने वाले डिजाइनर फेर्रागामो अपनी किताब में इस बारे में जिक्र कर चुके हैं। उन्होंने लिखा था कि महारानी ने उनसे काले वेल्वेट पर मोती और हीरे लगाने के लिए कहा था। यहां इस तस्वीर में जो लाल रंग की सैंडल दिख रही है, वह महारानी वेज सैंडल (Maharani Wedge sandal)। महारानी का फैशन सेंस गजब का था। खूब घूमती-फिरती थीं। यूरोप जाना खासकर पसंद था। हर साल वहां पार्टियां करती थीं। शॉपिंग में वक्त गुजारती थीं। जब शॉपिंग पर नहीं जा पाती थीं, तब रूबी और एमेरल्ड से जड़े हुए जूते अपने लिए तैयार करवा लिया करती थीं। फ्रांस की राजधानी पेरिस में इन्हें ही सबसे पहली बार शिफॉन की साड़ी पहने देखा गया था। ऊपर से मोतियों का हार उनकी सुंदरता में चार चांद लगाता था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग