ताज़ा खबर
 

इन गलीछाप दुकानों के पोस्टर-बैनर देखने के बाद मल्टीनेशनल कंपनियों के विज्ञापन की क्रिएटिविटी भी फुस्स लगेगी

हमारे घर के आस-पास कोई ना कोई ऐसी दुकान जरूर होती है जो लोगों के बीच पॉपुलर हो और उसका नाम भी ऐसा होता है कि जो एक बार इंसान सुन लें तो शायद ही वह उसे कभी भूल पाए।
आपको देश- प्रदेश में ऐसे बहुत से साइन बोर्ड्स मिल जाएंगे जिसे देखकर आपको हंसी तो आएगी ही साथ ही आप दुकानदार की सोच की भी दाद देंगे।

तस्वीर देखकर आपको पता तो चल ही गया होगा कि हम आपको क्या बताना चाहते हैं। जिस तरह आज के समय में इंसान की पहचान उसकी सुरत देखकर की जाती है ठीक उसी प्रकार दुकानों की पहचान भी उसकी हुलिया से ही होती है। हमारे घर के आस-पास कोई ना कोई ऐसी दुकान जरूर होती है जो लोगों के बीच पॉपुलर हो और उसका नाम भी ऐसा होता है कि जो एक बार इंसान सुन लें तो शायद ही वह उसे कभी भूल पाए। कई बार दुकान दिखने में भले ही अच्छी नहीं लगती हो, लेकिन वह अपने नाम की वजह से ही लोगों के बीच पॉपुलर हो जाती है। आज हम आपको कुछ ऐसे ही नामों के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे सुनने के बाद आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे। कहते हैं जिस तरह इंसान का मेकअप उसके चेहरे को निखारने का काम करता है, ठीक वैसे ही किसी दुकान का साइन बोर्ड उसे बनाने का काम करता है। अजीब तरह के साइन बोर्ड लगाने के पीछे दुकानदारों का बस एक ही मकसद होता है और वह है ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को अपनी तरफ खींचना।

आपको देश- प्रदेश में ऐसे बहुत से साइन बोर्ड्स मिल जाएंगे जिसे देखकर आपको हंसी तो आएगी ही साथ ही आप दुकानदार की सोच की भी दाद देंगे। आइए नजर डालते हैं कुछ ऐसे ही दुकानों के नाम पर…

# कृपया हॉर्न धीर बजाएं देश सो रहा है..
# जिंदगी ना मिलेगी दोबारा USE करो गुब्बारा
# बदनाम अंडे वाले
# जख्मी जूतों का अस्पताल
# बेकरार छोले
# भयंकर ठंडी बियर
# एक जीन्स दिला दो मम्मी जी लो दुकान आ गई शम्मी की

अब इन नामों से तो आपको अंदाजा लग ही गया होगा कि हमारे समाज में कुछ लोग ऐसे भी है जो खुद को हर चीज में दूसरों से अलग रखने की कोशिश करते हैं। अब यहां बिक्री हो ना हो लेकिन एक बार जाने पर ही ग्राहकों को इन दुकानों के नाम जरूर याद हो जाएंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग