ताज़ा खबर
 

महाराजा जगतजीत सिंह का शाही अंदाज था सबसे निराला, हर जगह ले जाते थे लक्जरी ब्रांड लुई विटन के 60 बक्से

Louis Viutton ब्रांड एक ऐसा ब्रांड था जो साल 1854 में लुई विटन ने बनाया था। लुई विटन का मोनोग्राम एलवी(LV) काफी प्रसिद्ध लोगो है। यह ब्रांड दुनिया के 50 देशों में अपनी पैठ बनाए हुए है।
कपूरथला के महाराजा जगतजीत सिंह।(Photo Source- Wikipedia)

आज के दौर में ब्रांडेड प्रोडक्ट्स की मांग आसमान छू रही है। भारतीय बाजार अमेरिका, चीन, जापान और कई देशों के ब्रांडेड प्रोडक्ट्स से भरा पड़ा है। बात ब्रांड की हो रही है तो चलिए आज हम आपको ऐसे राजा के बारे में बताते हैं। जो एक ही ब्रांड के इतने बड़े शौकिन थे कि जब भी उन्हीं कहीं जाना होता था तो वो एक ही ब्रांड के 60 बक्से साथ लेकर चलते थे।

हमारा भारत देश बहुत ही कमाल का देश है। यह तो आपको पता ही होगा कि यहां लोकतंत्र से पहले राजा-महाराजाओं का राज हुआ करता था. राजाओं के आधीन कई राज्य हुआ करते थे और इनके राज करने का तरीका भी अलग हुआ करता था। जितना इनके राज करने का तरीका अलग था उतने ही इनके शौक भी अजीबो-गरीब हुआ करते थे। कोई कुत्ते की शादी पर राष्ट्रीय अवकाश घोषित कर देता था तो विदेशी कारों को खरीद कर उनमें कूड़ा उठवाने का काम करता था। लेकिन आज हम उस राजा के बारे में बात कर रहे हैं जो लक्जरी ब्रांड लुई विटन के सबसे बड़े ग्राहक थे।

Louis Viutton ब्रांड एक ऐसा ब्रांड था जो साल 1854 में लुई विटन ने बनाया था। लुई विटन का मोनोग्राम एलवी(LV) काफी प्रसिद्ध लोगो है। यह ब्रांड दुनिया के 50 देशों में अपनी पैठ बनाए हुए है। जो ट्रंक्स, लेदर गुड्स, जूते, घड़ियां, ज्वैलरी, सनग्लासेस, और किताबें जैसी चीजे बनाता है। कपूरथला के महाराज जगतजीत सिंह हर जगह अपने साथ लुई विटन ब्रांड से भरे सामान के 60 बक्से हर जगह अपने साथ लेकर चलते थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.