ताज़ा खबर
 

सांपों को देखकर डरने के बजाए खुश हो जाती है यह लड़की, 3 साल में 34 बार डसने के बाद भी है जिंदा

इस साल 18 फरवरी तक मनीषा को 34 बार सांप काट चुके हैं। मेडिकल कॉलेज के सुपरिटेंडेंट ने माना कि 18 फरवीरो को मनीषा को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और ठीक हो रही है।
अस्पताल में भर्ती लड़की। (Photo Source: Screengrab/ANI

कितने लोगों के बारे में आप ने सुना है कि जिनको सांप ने काटा हो वह बच गए हो। ऐसे मामले कम ही मिलते हैं। ऐसे में अगर किसी को एक नहीं बल्कि 34 बार सांप काटे तो उसकी बचने की उम्मीद नहीं की जा सकती है। लेकिन ऐसी लड़की भी है कि जो 34 बार सांप के डसने के बाद भी मौत को मात दे चुकी है। 18 साल की इस लड़की का नाम मनीषा है और वह हिमाचल प्रदेश की रहने वाली है। पिछले तीन सालों में कई सांप उसकी जान पर हमला कर चुके हैं। हालांकि मनीषा का कहना है कि जब भी वह सांपों को देखती है तो खुश हो जाती है।

मनीषा ने एएनआई को बताया कि पिछले 3 साल में 30 से ज्यादा बार सांप मुझे काट चुके हैं। पहली बार मुझे गांव में साप ने काटा था। इस बार मुझे एक सफेद सांप ने काटा। जैसे ही मैं सांप को देखती हूं को खुश हो जाती हूं और वो मुझे काट लेता है। स्कूल के दिनों में सांप मुझे कई बार काट चुके हैं। कभी-कभी तो दिन में दो से तीन बार काट लेते थे। ज्योतिष और पादरियों का कहना है कि मेरा देवी-देवताओं से कुछ कनेक्शन है।

हालांकि डॉक्टरों का दावा है कि लड़की को काटने वाले ज्यादातर सांप या तो कम जहरीले थे या फिर जहरीले नहीं थे। अलग-अलग मेडिकल सेंटर्स और अस्पताल से प्राप्त रिपोर्ट्स के मुताबिक इस साल 18 फरवरी तक मनीषा को 34 बार सांप काट चुके हैं। मेडिकल कॉलेज के सुपरिटेंडेंट ने माना कि 18 फरवीरो को मनीषा को अस्पताल में भर्ती कराया गया था और ठीक हो रही है।

लड़की के पिता सुमेर वर्मा का कहना है कि सांप के काटने का मामला रूटीन हो गया है। मैं उसे कई मंदिरों, पादरियों और डॉक्टरों के पास ले गया। हमारे क्षेत्र में इसे स्थानीय देवी-देवताओं का आशीर्वाद माना जाता है। इस क्षेत्र में रहने वालों सांपों के जानकारों का कहा है कि हो सकता है कि लड़की को काटने वाले सांप जहरीले न हो। हमें नहीं पता कि उसे किस सांप ने काटा। हमारे पास वाइपर और रसेल सांप भी मौजूद हैं। लेकिन रेटल स्नैक यहां आम है। हो सकता है कि उसे बिना जहर वाले सांपों ने ही काटा हो।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग