ताज़ा खबर
 

पीएम मोदी को लेकर दुल्हा-दुल्हन में हुई ऐसी बहस कि टूट गई शादी

लड़का एक बिजनेसमैन है और पीएम मोदी का कट्टर सर्मथक है, वहीं लड़की सरकारी नौकरी करती है और देश की गिरती अर्थव्यवस्था के लिए पीएम को जिम्मेदार मानती है।
चित्र का इस्तेमाल सिर्फ प्रतीक के तौर पर किया गया है।

कानपुरः मोदी सपोर्ट्स और मोदी हेटर्स के बीच हो रही बहस इस हद तक पहुंच जाएगी किसी ने नहीं सोचा था। उत्तर प्रदेश में ऐसा एक अजीबो गरीब मामला सामने आया है, जहां प्रधानमंत्री मोदी को लेकर हुई बहस इतनी बढ़ गई कि शादी ही टूट गई।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक घटना कानपुर की है, जहां खुद का बिजनेस करने वाले व्यक्ति की शादी सरकारी नौकरी कर रही एक लड़की से होने वाली थी। दोनों के बीच सबकुछ ठीक चल रहा था और सिर्फ शादी समारोह की व्यवस्था को लेकर बात करनी रह गई थी।

दोनों ने फैसला किया कि वह मंदिर में मुलाकात करके इस बारे में बात कर लेंगे। दोनों की मुलाकात हुई और बातें होने लगी। तभी देश की गिरती अर्थव्यवस्था को लेकर चर्चा होने लगी। सरकारी नौकरी करने वाली लड़की का कहना था कि इसके लिए पीएम मोदी ही जिम्मेदार है। मगर लड़की को जानकारी नहीं थी कि उसका होने वाला दुल्हा मोदी समर्थक है। फिर क्या था, दोनों के बीच जमकर बहस हुई और बात यहां तक आ गई कि दोनों को शादी तोड़ने का फैसला करना पड़ा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. C
    Chand
    Jul 23, 2016 at 9:12 am
    Kya iske pahle desh ki economy achhi thi?
    (0)(0)
    Reply
    1. B
      bitterhoney
      Jul 8, 2016 at 5:05 pm
      यह नजाने कितनी शादिएँ तोड़ेगा नजाने कितने घर उजारेगा
      (2)(0)
      Reply
      1. R
        Ramdev
        Jul 10, 2016 at 9:06 am
        re�ces�siona period of temporary economic decline during which trade and industrial activity are reduced, generally identified by a fall in GDP in two successive quarters.
        (0)(0)
        Reply
        1. Ravindra Yadav
          Jul 12, 2016 at 7:31 am
          वैचारिक मतभेद शादी के बाद और अधिक पीड़ा दायक बन जाता है.
          (0)(0)
          Reply
          1. R
            ramkishan
            Jul 9, 2016 at 11:16 pm
            जहाँ जहाँ नाम आये सिद्धां के तहँ तहँ बंटाधार
            (0)(0)
            Reply
            1. D
              deepak
              Jul 9, 2016 at 5:05 am
              mujhe lagta hai dono ko samjh se kaam lena chahiye tha
              (0)(0)
              Reply
              1. Load More Comments