ताज़ा खबर
 

WWE चैंपयिनशिप को बचाने के लिए रैंडी ओर्टन से ‘पंजाबी पिंजरे’ में भिड़ेंगे जिंदर महल, वीडियो में देखिए कैसा होता है यह

WWE की दुनिया में पंजाबी जेल पिंजरा लाने का श्रेय भारत के मशूहर WWE फाइटर खली को जाता है जिन्होंने सबसे पहले इस तरह की फाइट की शुरुआत की थी।
ये फाइट अगले स्मैक डाउन लाइव पे पर वियू (पीपीवी) में WWE बैटलग्राउंड पर 23 जुलाई (2017) फिलाडेल्फिया में होगी। (फोटो सोर्स वीडियो स्क्रीन शॉट)

वर्ल्ड रेसलिंग एंटरटेनमेंट (डब्ल्यूडब्ल्यूई) की दुनिया में ‘मॉडर्न डे महाराजा’ के नाम से मशूहर भारतीय मूल के कनाडाई रेसलर जिंदर महल ने WWE चैंपियनशिप के दूसरे टाइटल मैच में रैंडी ओर्टन को चुनौती दी है। ये फाइट अगले स्मैक डाउन लाइव पे पर वियू (पीपीवी) में WWE बैटलग्राउंड पर 23 जुलाई (2017) फिलाडेल्फिया में होगी। ऐसा इसलिए हुआ जब रैंडी ओर्टन ने इस हफ्ते लाइव रिंग में WWE टाइटल के लिए दोबारा फाइट की मांग की। जिसके बाद स्मैकडाउन कमिश्ननर शेन मैकमोहन मैच के दौबारा होने की अनुमति दे दी। हालांकि फाइट के लिए जिंदर महल को लाभ देते हुए फाइट का समय चुनने को उन्हें कहा गया है। जिसके बाद WWE स्टार जिंदर महल ने ऐलान किया कि वो खुद रेंडी ऑर्टन से पंजाबी पिंजरे  में लड़ेंगे। जानकारी के लिए बता दें कि WWE की दुनिया में अभी तक महज दो ही मैच पंजाबी पिंजरे में हुए हैं। पंजाबी पिंजरे के मैच की सबसे खास बात ये ही कि इसमें माफी की कोई गुंजाइश नहीं होती।

WWE की दुनिया में क्या होता है पंजाबी पिंजरा-
पंजाबी पिंजरे में सबसे पहले रिंग के चारों तरफ बासों की दीवार खड़ी की जाती है। उसके बाहर भी एक अन्य दीवार होती है जो मजबूत बांसों से बनाई गई होती है। बांसों से बनाए गए इस पिंजरे से विरोधी खिलाड़ी का भागना या फाइट बीच में छोड़कर जाना बहुत मुश्किल होता है। साथ ही इस तरह की फाइट में विरोधी फाइटर को माफ नहीं किया जाता। खबरों के मानी तो WWE की दुनिया में पंजाबी जेल पिंजरा लाने का श्रेय भारत के मशूहर WWE फाइटर खली को जाता है जिन्होंने सबसे पहले इस तरह की फाइट की शुरुआत की थी। हालांकि सबसे पहले पंजाबी पिंजरे में फाइट अंडरटेकर और बिग शो के बीच ग्रेट अमेरिकन बेश में हुई थी। ये फाइट साल 2006 में हुई थी। फाइट से पहले माना जा रहा था कि भारतीय पहलवान खली अंडरटेकर से लड़ेंगे लेकिन मेडिकल टेस्ट में वो पास नहीं हो सके। जिसके बाद खली की जगह बिग शो ने इस फाइट में हिस्सा लिया। इसके बाद पंजाबी पिंजरे में दूसरी फाइट बटिस्टा और खली के बीच साल 2007 में हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग