ताज़ा खबर
 

वायरल वीडियो: नमाज पढ़ने जा रहे शख्स को आतंकी समझकर लगा दी हथकड़ी, पूछा- इतने कपड़े क्यों पहने?

वीडियो सबसे पहले डीओएएम फेसबुक पेज पर अपलोड किया गया है।
फेसबुक पर अपलोड किए जाने केबाद से वीडियो को अबतक 70 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं जबकि 90 हजार से ज्यादा फेसबुक यूजर्स ने इसे अपनी वॉल पर शेयर किया है। (फोटो सोर्स वीडियो स्क्रीन शॉट)

दुनियाभर में बढ़ते इस्लामोफोबिया (मुस्लिमों से डर या नफरत) का शिकार एक बार फिर निर्दोष मुस्लिम को बनाना पड़ा है, हालांकि ऐसे हालात पैदा करने में बड़ी भूमिका कथित मीडिया की भी रही है, जहां एक मुस्लिम को महज इसलिए आतंकी समझ लिया गया क्योंकि उसने एक से ज्यादा कपड़े पहन रखे थे। घटना लंदन की जहां हाल ही में एक मुस्लिम शख्स के हथकड़ी लगा दी गई और उसकी गहन तलाशी ली गई। खबर के अनुसार मुस्लिम शख्स की तलाशी महज इसलिए ली गई क्योंकि गर्म दिन में भी उसने एक से ज्यादा कपड़े पहन रखे थे। इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार शख्स जुमे (शुक्रवार के दिन, सप्ताह में एक बार होने वाली मुस्लिमों की प्रमुख नमाज) की नमाज के लिए मस्जिद जा रहा था। इस दौरान वहां से गुजर रही एक महिला ने शख्स को रोका और पुलिस को खबर दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शख्स को तुरंत हथकड़ी लगाई और उससे पूछताछ की। पूरी वारदात को कैमरे में कैद कर लिया गया। रिपोर्ट के अनुसार महिला के पहचान अंडरकवर पुलिसकर्मी के रूप में की गई। दूसरी तरफ शख्स के पास से कुछ भी आपत्तिजनक ना मिलने पर पुलिस ने बताया कि उन्होंने शख्स की तलाशी क्यों ली? पूरी घटना वीडियो में देखी जा सकती है।

वहीं वारदात के बाद वीडियो तेजी से सोशल साइट्स पर वायरल हो रहा है। वीडियो सबसे पहले डीओएएम फेसबुक पेज पर अपलोड किया गया है। सूत्रों के अनुसार पीड़ित शख्स ने डीओएएम को बताया, ‘मैं जुम्मा की नमाज के लिए मस्जिद जा रहा था। लेकिन जैसी ही मस्जिद के पास पहुंचा, अचानक चारों तरफ से पुलिस ने मुझे घेर लिया और मुझे हथकड़ी लगा दी। मुझे एक महिला (जिसकी पहचान बाद में अंडरकवर पुलिस ऑफिसर के रूप में हुई) ने रोककर पूछा कि मैंने इतने सारे कपड़े क्यों पहने हैं। जबकि मैंने सिर्फ दो ही कपड़े पहने थे। इस दौरान पुलिस ने मुझपर अवैध हथियार रखने का झूठा आरोप लगाकर तलाशी ली। मेरे पास जब कुछ भी संदिग्ध नहीं मिला तो उन्होंने मेरा एड्रेस, नाम और जन्मतिथि की जानकारी लेकर छोड़ दिया।’

जानकारी के लिए बता दें कि वायरल हुए वीडियो को अबतक 70 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं। जबकि सैकड़ों लोगों ने इस घटना की निंदा की है। कई लोगों ने इसे मानव अधिकारों का हनन बताया है। कई फेसबुक यूजर्स ने आरोप लगाया कि किसी विशेष धर्म से संबंध रखने के कारण शख्स को निशाना बनाया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. H
    Hindustani
    Sep 1, 2017 at 12:26 am
    That the right way to treat Muslims....they are all nuisances to civilian, they keep 4 wives as slaves. No respect to feminism. All female Muslims ought to change their religion for better life.Because they get one life to live...and thats too like a slave. SHAMEFUL RELIGION....
    (0)(0)
    Reply