ताज़ा खबर
 

शिवराज ने पी वेंकैया की जयंती को बताया पुण्‍यतिथि, लोगों ने कहा- तभी आप शवराज हैं

देश को तिरंगा देने वाले पिंगली वेंकैया का जन्म दो अगस्त 1876 को वर्तमान आंध्र प्रदेश में हुआ था।
मध्य प्रदेश में पुलिस की गोलीबारी में कई किसानों के मारे जाने के बाद जब सीएम शिवराज सिंह चौहान एक कार्यक्रम में इस मुद्रा में नजर आए तो ट्विटर पर उनकी खूब खिंचाई हुई थी।

राष्ट्रप्रेम के दावे करने में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का शायद ही कोई मुकाबला कर सके लेकिन मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की बुधवार (दो अगस्त) को सोशल मीडिया पर तब किरकिरी हो गई जब उन्होंने भारत के राष्ट्रीय ध्वज के रूप में तिरंगा की सबसे पहले परिकल्पना करने वाले पी वेंकैया की जंयती को उनकी पुण्यतिथि बता दिया। हालांकि यूजर्स के तीखे कमेंट के बाद सीएम शिवराज के को इस गलती का अहसास हुआ और उन्होंने पुण्यतिथि का कमेंट डिलीट करके जयंती वाला कमेंट किया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी पिंगली वेंकैया की जयंती पर उन्हें नमन किया है।

शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया था, “पिंगली वेंकैया के पुण्यतिथि पर उनका स्मरण। वो न केवल एक बहादुर स्वतंत्रता सेनानी थी बल्कि एक कलाकार भी थे जिसने हमें राष्ट्रीय ध्वज दिया।” वरिष्ठ पत्रकार और समाजशास्त्री अभय दुबे ने ट्विटर पर लिखा, “चौहान जी जन्मदिन के दिन को मरण का दिन मना दिया आप ने, क्या इसे भी अब लोकतंत्र की हत्या समझा जाये।” एक अन्य यूजर ने शिवराज के ट्वीट पर कमेंट करते हुए कहा दिया कि इसीलिए आपको शवराज कहते हैं।

पिंगली वेंकैया का जन्म दो अगस्त 1876 को वर्तमान आंध्र प्रदेश में हुआ था। 1921 में पिंगली वेंकैया ने अखिल भारतीय कांग्रेस कार्य समिति के बेजवाड़ा (अब विजयवाड़ा) अधिवेशन में महात्मा गांधी के सामने भारत के राष्ट्रीय ध्वज के तौर पर लाल और हरे रंग का झंडा प्रस्तुत किया। गांधी जी के सुझाव पर उन्होंने इस झंडे में अन्य समुदायों की प्रतीक सफेद रंग की पट्टी और लाला हरदयाल के सुझाव पर विकास के प्रतीक चरखे को जगह दी। लाल रंग की जगह केसरिया को जगह देते हुए 1931 में कांग्रेस ने तिरंगे को अपना आधिकारिक ध्वज बना लिया। आजादी के बाद यही तिरंगा हमारा राष्ट्रीय ध्वज बना। देश को तिरंगा देने वाले पिंगली वेंकैया का बेहद गरीबी में चार जुलाई 1963 को विजयवाड़ा में निधन हुआ।

shivraj singh chauhan, shivraj tweet शिवराज सिंह चौहान का वो ट्वीट जो उन्होंने बाद में डिलीट कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.