December 06, 2016

ताज़ा खबर

 

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ यादव परिवार का ‘दंगल’, खूब शेयर हो रहा यह पोस्‍टर

समाजवादी पार्टी के लिए रविवार का दिन अच्‍छा नहीं रहा।

सोशल मीडिया पर यह पोस्‍टर खूब शेयर किया जा रहा है। (Source: Twitter)

उत्‍तर प्रदेश के सत्‍ताधारी परिवार का राजनैतिक संकट अब खुलकर सामने आ चुका है। यादव परिवार की कलह पर सोशल मीडिया में खूब चुटकियां ली जा रही हैं। कुछ पोस्‍ट्स में परिवार के भीतर की इस लड़ाई को ‘दंगल’ का नाम दिया गया है। आमिर खान की फिल्‍म ‘दंगल’ के पोस्‍टर को परिवर्तित करके उसमें मुलायम सिंह यादव, शिवपाल यादव प्रो. रामगोपाल यादव, अखिलेश यादव और आजम खान को दिखाया गया है। साथ ही नीचे लिखा गया है कि ”म्‍हारे छोरे गुंडों से कम है के?” समाजवादी पार्टी के लिए रविवार का दिन अच्‍छा नहीं रहा। पहले खबर आई कि अखिलेश यादव ने अपने मंत्रिपरिषद से चाचा शिवपाल सिंह यादव समेत चार मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया है। मुख्यमंत्री ने बर्खास्तगी की चिट्ठी राज्यपाल राम नाईक को भेज दी थी। वहीं उत्तर प्रदेश सरकार से बर्खास्तगी के बाद शिवपाल सिंह यादव ने पहली प्रतिक्रिया देते हुए कहा है था कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पार्टी के ही एक बड़े नेता की चाल का शिकार हो गए हैं, जिसे वो समझ नहीं सके और ऐसा कदम उठा लिया। उनका इशारा रामगोपाल यादव की ओर था। शिवपाल ने रामगोपाल यादव का नाम लिए बिना कहा, पार्टी के कुछ बड़े नेता सीबीआई से बचने के लिए बीजेपी से मिल गए हैं। उन्होंने कहा कि यह वक्त चुनाव का है, इसलिए एकजुट होकर सभी लोग पार्टी हित में काम करें। शिवपाल ने यह भी कहा कि मुलायम सिंह यादव के नेतृत्व में वो विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।

आखिर कौन है यादव परिवार में कलह के पीछे, जानने के लिए देखें वीडियो:

इसके बाद, समाजवादी पार्टी (सपा) के महासचिव रामगोपाल यादव को पार्टी से निकाल दिया गया। वह अखिलेश के समर्थन में थे। उन्हें मुलायम सिंह यादव ने पार्टी से निकाला। रामगोपाल को छह साल के लिए पार्टी से निकाला गया। बाहुबली मुख्तार अंसारी की पार्टी ‘कौमी एकता दल’ के समाजवादी पार्टी में विलय को लेकर यह झगड़ा शुरू हुआ था। अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव विलय करवाना चाहते थे वहीं अखिलेश इसके खिलाफ थे। अखिलेश की गैरमौजूदगी में विलय हो भी गया था। लेकिन बाद में अखिलेश ने विलय खत्म कर दिया।

READ ALSO: अरविंद केजरीवाल ने जोक शेयर कर उड़ाना चाहा मोदी भक्‍तों का मजाक, मगर उल्‍टा पड़ गया दांव

इसके बाद से अखिलेश और शिवपाल के बीच दूरियां बढ़ने लगीं। अखिलेश ने कई बार मीडिया के सामने आकर कहा कि लड़ाई पारिवारिक ना होकर राजनीतिक है। अखिलेश ने शिवपाल से कई बड़े विभाग छीन भी लिए थे। फिर शिवपाल के समर्थकों के प्रदर्शन के बाद अखिलेश ने उन्हें विभाग लौटा भी दिए। इसी बीच शिवपाल ने मुलायम सिंह को अपने ‘पाले’ में करके कौमी एकता दल का विलय समाजवादी पार्टी में कर लिया था। हाल ही में अखिलेश अपनी पत्नी के साथ अलग घर में भी शिफ्ट हो गए हैं।

READ ALSO: असहिष्‍णुता पर रतन टाटा की टिप्‍पणी पर लोग ले रहे चुटकी- नमक खाया है, अब क्‍या करेंगे ‘भक्‍त’?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 23, 2016 6:25 pm

सबरंग