ताज़ा खबर
 

आरके स्‍टूडियो में आग में खाक हुईं यादें, ऋषि कपूर बोले- स्‍टूडियो तो फिर से बनाया जा सकता है मगर…

आरके फिल्म्स ने बॉलीवुड को 'बरसात' (1949), 'अवारा' (1951), 'बूट पॉलिश' (1954), 'श्री 420' (1955) और 'जागते रहो' (1956) जैसी शानदार फिल्में दी हैं।
Author September 17, 2017 13:07 pm
आरके स्‍टूडियो के एक हिस्‍से में लगी आग का दृश्‍य। (Photo: PTI)

दिग्गज अभिनेता ऋषि कपूर ने शनिवार को मशहूर आर. के. फिल्म्स एंड स्टूडियोज में लगी आग के कारण स्टूडियो में बनी फिल्मों की यादों और कॉस्ट्यूम्स की अपूरणीय क्षति पर दुख प्रकट किया। स्टूडियो के संस्थापक राज कपूर के बेटे ऋषि कपूर ने ट्वीट कर कहा, “स्टूडियो तो फिर से बनाया जा सकता है, लेकिन आर.के. फिल्मों की यादों और कॉस्ट्यूम्स की अपूरणीय क्षति सभी के लिए दुखद है। आग ने इसे छीन लिया।” चेंबूर इलाके में स्थित मशहूर आर.के. फिल्म्स एंड स्टूडियोज में शनिवार दोपहर भीषण आग लग गई थी। ऋषि ने ट्वीट कर कहा, “हमने प्रतिष्ठित स्टेज-1 खो दिया है। शुक्र है कि कोई भी हताहत या घायल नहीं हुआ।” आग में स्टूडियो के मुख्य शूटिंग स्थलों में से एक – डांस रियलिटी टीवी शो ‘सुपर डांसर सीजन 2’ का सेट जलकर खाक हो गया है। लेकिन सौभाग्य से उस वक्त शूटिंग नहीं चल रही थी।

आर.के फिल्म्स ने बॉलीवुड को ‘बरसात’ (1949), ‘अवारा’ (1951), ‘बूट पॉलिश’ (1954), ‘श्री 420’ (1955) और ‘जागते रहो’ (1956) जैसी शानदार फिल्में दी हैं। इसमें ‘जिस देश में गंगा बहती है’ (1960), ‘मेरा नाम जोकर’ (1970), ऋषि कपूर और डिंपल कपाडिया की पहली फिल्म ‘बॉबी’ (1973), ‘सत्यम शिवम सुंदरम’ (1978), ‘प्रेम रोग’ (1982), ‘राम तेरी गंगा मैली’ (1985) जैसी कई फिल्में बनाई गईं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.