December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

लापता बच्‍चों की तलाश के लिए चीनियों की नई तरकीब- पानी की बोतलों पर चिपका रहे तस्‍वीरें

गायब हुए बच्चों को ढूंढने के लिए चीन की एक कंपनी नया तरीका निकाला है। जिसमें कंपनी ने एक बोतल मार्केट में उतारी है, जिसमें गायब हुए बच्चों की पर्ची चिपकी हुई है।

चीन में पानी की बोतलों पर चपकी लापता बच्चों की तस्वीर। (Photo Source: CCTV News/Facebook)

दुनिया भर में मानव तस्करी और अंग तस्करी रैकेट के लिए बच्चे सबसे सॉफ्ट टारगेट होते हैं। जब बच्चों गायब हो जाते हैं तो अथॉरिटीज बच्चे को मृत मान लेते हैं। गायब हुए बच्चों को ढूंढने के लिए चीन की एक कंपनी नया तरीका निकाला है। किंगडाओ की एक कंपनी ने Baobeihuijia.com नाम की वेबसाइट के साथ पार्टनरशिप करके एक बोतल मार्केट में उतारी है, जिसमें गायब हुए बच्चों की पर्ची चिपकी हुई है। Baobeihuijia.com एक ऑनलाइन डेटाबेस है जो गायब बच्चों को ट्रैक करता है। सीसीटीवी न्यूज के मुताबिक बोतलों पर मिसिंग बच्चों की जानकारी दी है, जिसमें उनका फोटोग्राफ और अभिभावकों की डिटेल्स दी गई है।

कंपनी ने बेबी, कम होम स्लोगन के साथ 5 लाख से ज्यादा बोतलें लॉन्च की है। कंपनी ने कहा कि बच्चों की तस्वीर और जानकारी उनके फैमिली की इजाजत के बाद बोतल पर प्रिंट की गई है। परेशान परिवारों की मदद और जागरुकता फैलाने के लिए इन बोटल्स को विभिन्न सुपरमार्केट, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट्स और सार्वजनिक स्थानों पर बेचने का फैसला किया है। चाइना नेशनल रेडियो वेबसाइट के मुताबिक चीन में लापता होने वाले बच्चों का आकड़ा काफी अधिक है। हर साल 2 लाख के करीब बच्चे गायब होने की खबर है। उन्होंने कहा कि इस तरह के अभियान से बच्चों को सर्च करने में मदद मिलेगी और लोग अपने आसपास की चीजों के प्रति ज्यादा सतर्क होंगे।

सीसीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक यह विचार 1979 के एक अभियान के जैसा है। उस वक्त एक पिता ने अपने 6 साल के बेटे को ढूंढने के लिए दूध के कार्टन पर बेटे की फोटो और जानकारी प्रिंट करके न्यूयॉर्क में वितरित की गई थी। हालांकि 20 साल बाद लड़के को कानूनी रूप से मृत घोषित कर दिया गया था।

गौरतलब है कि चीन ही नहीं विश्व के कई देशों में मानव तस्करी और अंग तस्करी में मासूम बच्चों का इस्तेमाल किया जाता है। साल 2014 में गृह मंत्रालय द्वारा संसद में प्रस्तुत किए गए आंकड़े में बताया गया था  कि 2011 से 2014 (जून तक) तीन लाख 25 हजार बच्चे गायब हुए। अगर औसत निकालें तो साल में करीब एक लाख बच्चे अपने यहां गायब हो रहे हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के मुताबिक हर आठवें मिनट में हमारे यहां एक बच्चा गायब हो रहा है।

वीडियो: JNU हॉस्टल में मिला छात्र का शव; तीन दिन से था लापता

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 13, 2016 1:09 pm

सबरंग