April 27, 2017

ताज़ा खबर

 

ट्विटर यूजर्स बोले- पीएम नरेंद्र मोदी की नोटबंदी लाई मंदी, एप सर्वे का भी उड़ाया मजाक

प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी के फैसले पर कराए गए सर्वे के परिणाम बुधवार रात ट्विटर पर शेयर किए थे।

(Photo: PTI/Twitter)

पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा 8 नवंबर को 500 व 1000 रुपए के नोटों का विमुद्रीकरण करने का फैसला सोशल मीडिया पर खूब चर्चित है। रोज कोई न कोई ट्रेंड नोटबंदी के फैसले के समर्थन या विरोध में सोशल मीडिया वेबसाइट्स पर हिट हो जाता है। गुरुवार को #नोटबंदी_लाई_मंदी टॉप ट्रेंड्स में शामिल रहा। यह ट्रेंड लॉरसन एंड टर्बो द्वारा 14 हजार से ज्‍यादा कर्मचारियों को बाहर निकाले जाने के विरोध में शुरू हुआ था। कंपनी के इस फैसले को कुछ लोग आने वाली मंदी की आहट बता रहे हैं। ट्विटर पर कुछ यूजर्स ने इस हैशटैग के साथ पीएम नरेंद्र मोदी पर चुटीली टिप्‍पणियां भी की हैं। पीएम मोदी इधर पिछले कुछ दिनों से अपने भाषण के दौरान भावुक हो जाते हैं, इसी पर तंज कसते हुए एक यूजर ने लिखा है, ”अब ये अफवाह कौन फैला रहा है कि 2000 का नोट मरोड़ने पर मोदी के रोने की आवाज़ आती है।” एक और यूजर लिखते हैं, ”अधूरी तैयारी के नोटबंदी का ऐलान करके नरेंद्र मोदी, घोड़े को रथ के पीछे बाँधकर हांकने वाले प्रथम प्रधानमंत्री हैं।”

#नोटबंदी_लाई_मंदी हैशटैग के बहाने ‘नरेंद्र मोदी एप’ के जरिए नोटबंदी के फैसले को लेकर कराए गए सर्वे का भी मजाक उड़ाया जा रहा है। तरुण लिखते हैं, ”नरेंद्र मोदी एप सर्वे में ‘बुरा’ कहने का ऑप्शन नहीं था,तो ‘अच्छा’ कहना पड़ा।” सोनू नाम के यूजर ने लिखा है, ”नोटबंदी, सरकार का एक साहसिक क़दम है, लेकिन #नोटबंदी_लाई_मंदी से होने वाली परेशानी पर बात करना, संसद के अंदर और बाहर, लोकतांत्रिक अधिकार है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने नोटबंदी के फैसले पर कराए गए सर्वे के परिणाम बुधवार रात ट्विटर पर शेयर किए थे। 5 लाख यूजर्स की भागीदारी का दावा कर जो आंकड़े जारी किए गए, उसके हिसाब से 90 फीसदी से ज्‍यादा लोग सरकार के फैसले के साथ हैं। 98 फीसदी लोगों का मानना है कि देश में काला धन मौजूद हैं। 99 फीसदी लोग मानते हैं कि भ्रष्‍टाचार और काले से लड़ाई बेहद जरूरी है। 90 फीसदी लोगोंं ने कहा कि सरकार ने काला धन रोकने के लिए जो कदम उठाए, वे अच्‍छे हैं।

सर्वे में हिस्‍सा लेने वाले 92 फीसदी लोग मानते हैं कि भ्रष्‍टाचार के विरुद्ध मोदी सरकार की कोशिशें बहुत अच्‍छी हैं। 90 फीसदी लोगों ने 500 व 1000 के पुराने नोट बंद करने के फैसले का समर्थन किया है। 92 फीसदी लोगों का मानना है कि इस फैसले काले धन, भ्रष्‍टाचार और आतंकवाद पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी।

नोटबंदी के फैसले पर पीएम नरेंद्र मोदी ने मांगी जनता की राय, वीडियो में जानिए कैसे दे सकते हैं फीडबैक: 

वीडियो: बिग बाज़ार के स्टोर्स से निकाल सकेंगे 2000 रुपए; केजरीवाल ने पूछा- क्या डील हुई मोदी जी?- 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 24, 2016 1:22 pm

  1. D
    devinder singh
    Nov 25, 2016 at 4:37 am
    faisla thik pr teyari puri ni ki na lg raha hai k jldi kuch ho पायेगाinsan khud ko kitna bhi preshan kr le pr apne priwar ko tkleef m nhi dekh सकताhmari vot to aapke liye hi hai pr aapko bhi logo ka sochna hoga jaldi fast paise shapo यर
    Reply
    1. N
      NAVNEET MANI
      Nov 25, 2016 at 6:01 pm
      असली बात ये है - नोटबंदी के बाद देश के मीडिया में लगा काला धन बाहर आने लगा है. एनजीओ चलाने वालों की दुकाने भी बंदी के कगार पर हैं. इसी बौखलाहट में ये अनाप-शनाप खबरें पेश की जा रहे हैं सरकार के खिलाफ. आज पूरा देश मोदी जी के इस साहसिक फैसले के साथ खड़ा है.
      Reply
    2. D
      devinder singh
      Nov 25, 2016 at 4:13 am
      pm sahb aapne not bdle sahi kiya pr aapka faisla glt हैlog itne preshan hai k morng se evng tk khde rhne pr bhi apne paise hi ni mil rhe ro dete hai log khde khde agr jld es bimari ka ilaaj ni kiya gyeya to bank rhenge hi nhi
      Reply
      1. D
        Dayanand
        Nov 25, 2016 at 8:39 am
        Jo log note ban se preshan h wo log doctor ke p n jay treatment k liye.bahut paisa kharch hota h aur dard v
        Reply
        1. N
          NAVNEET MANI
          Nov 25, 2016 at 6:01 pm
          असली बात ये है - नोटबंदी के बाद देश के मीडिया में लगा काला धन बाहर आने लगा है. एनजीओ चलाने वालों की दुकाने भी बंदी के कगार पर हैं. इसी बौखलाहट में ये अनाप-शनाप खबरें पेश की जा रहे हैं सरकार के खिलाफ. आज पूरा देश मोदी जी के इस साहसिक फैसले के साथ खड़ा है.
          Reply

        सबरंग