ताज़ा खबर
 

मोबाइल लाते थे स्टूडेंट्स, सबक सिखाने के लिए अपनाया गया यह तरीका, देखिए वीडियो

स्कूल में फोन इस्तेमाल करने पर पूरी तरह से बैन लगया गया है।
छात्रों के परिजन भी चाहते हैं कि उनके बच्चे पढ़ाई करें और अनुशासन में रहें। (Photo Source: Video Grab)

स्कूल प्रशासन छात्रों को अनुशासन में रखने के लिए नए-नए तरीकों का इस्तेमाल करते रहते हैं। छात्रों के लिए क्या सही है और क्या गलत यह बताना बहुत जरुरी हो गया है क्योंकि छात्र छोटी उम्र में ही अपराध की दुनिया में कदम रखने लगे हैं। इसके पीछे एक कारण मोबाइल फोन भी है। मोबाइल फोन के जरिए छात्र नेट का इस्तेमाल कर कुछ भी हासिल कर सकते हैं, फिर वो चाहे कोई अच्छी सीख हो या चाहे गलत। ऐसे छात्रों को सबक सिखाने के लिए एक स्कूल ने छात्रों के सामने ही उनके फोन हथौड़े से तोड़ डाले।

यह मामला चीन के गिज़ू प्रांत के एक मि़डल स्कूल का है। यहां पर स्कूल प्रशासन ने छात्रों से उनके फोन ले लिए और सभी को एक ग्राउंड में बुलाकर उनके फोन को हथौड़े से तोड़ दिया। इस घटना का एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर बहुत शेयर किया जा रहा है। इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि कैसे एक बड़े से ग्राउंड में पूरे स्कूल के छात्रों को बिठाया गया है और उनके सामने बैठा एक व्यक्ति पहले तो फोन को पानी डूबाता है फिर हथौड़ा लेकर उसे चकनाचूर कर देता है। इसके बाद जो भी छात्र स्कूल में फोन लेकर आया था उन सभी के फोन का यही हाल किया गया।

इस मामले पर स्कूल की एक फैकल्टी सदस्य का कहना है कि छात्रों को अनुशासन में रखना जरुरी है। उन्हें यह पता होना चाहिए कि उनके लिए क्या सही है और क्या नहीं, इसलिए उनके फोन के साथ इस तरह का व्यवहार करना बिलकुल सही है ताकि वे आगे से स्कूल में फोन लेकर न आए। स्कूल में फोन इस्तेमाल करने पर पूरी तरह से बैन लगया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि छात्रों के फोन तोड़ने से पहले उनके परिजनों से अनुमति ले ली गई थी। छात्रों के परिजन भी चाहते हैं कि उनके बच्चे पढ़ाई करें और अनुशासन में रहें। वहीं जब छात्रों के फोनों को तोड़ा जा रहा था तो कई छात्रा रो भी रहे थे। उन्हें अपने फोन का इस प्रकार से तोड़ा जाना कतई भी अच्छा नहीं लग रहा था।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.