January 20, 2017

ताज़ा खबर

 

मार्कण्डेय काटजू ने श्रवण कुमार का जिक्र कर ऐसे उड़ाया राहुल गांधी का मजाक,आगे लिखा-मेरठवासियों,देशद्रोह का मुकदमा मत दर्ज करवा देना

जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की किसान यात्रा के साथ-साथ मेरठ का भी मजाक बनाया।

जस्टिस मार्कण्डेय काटजू

जस्टिस मार्कण्डेय काटजू ने गुरुवार (6 अक्टूबर) को फेसबुक पर एक पोस्ट किया। उस पोस्ट में उन्होंने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की किसान यात्रा के साथ-साथ मेरठ का भी मजाक बनाया। अपनी पोस्ट में काटजू ने राहुल को मेरठ ना जाने की सलाह दी। इसके साथ ही उन्होंने श्रवण कुमार की कहानी का भी जिक्र किया। जो अपने माता-पिता को कंधों पर लकड़ी का झूला बनाकर उनपर बिठाकर तीर्थ यात्रा के लिए ले जाता है। कहानी का जिक्र करते हुए काटजू ने कहा कि राहुल को मेरठ नहीं जाना चाहिए था क्योंकि वहां जाते ही श्रवण कुमार के दिमाग ने भी ‘काम करना बंद कर दिया था’। इसके लिए उन्होंने कहानी में बताया कि जब श्रवण कुमार अपने माता-पिता को लेकर मेरठ में दाखिल हुआ था तो उसने झूले को अपने कंधे पर से उतारकर रख दिया था और अपने माता-पिता से कहा था कि वह उन दोनों का बोझ नहीं उठा सकता। साथ ही साथ काटजू ने लिखा कि श्रवण कुमार ने माता-पिता से यह भी कहा था कि वह अभी जवान है और दुनिया घूमना चाहता है। लेकिन फिर श्रवण के पिता उसे राय देते हैं कि वह चाहे तो उन्हें मेरठ पार करवाकर छोड़ सकता है। काटजू ने लिखा कि इसके बाद श्रवण कुमार झूला उठाकर मेरठ पार करने के लिए चल पड़ता है। दोनों को लेकर जैसे ही वह मेरठ के बाहर निकलता है तो उसकी अक्ल ठिकाने आ जाती है और वह अपने माता पिता से माफी मांगकर फिर से आगे बढ़ जाता है। कहानी पूरी लिखने के बाद काटजू ने राहुल को राय दी कि अगर वह अपने सही रास्ते पर चलना चाहते हैं तो उन्हें मेरठ को छोड़ देना चाहिए। आखिर में उन्होंने मजाकिया लहजे में लिखा, ‘मेरठ वासियों यह बस एक मजाक है। बिहारियों की तरह बर्ताव करके मेरे खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा मत कर देना।’

वीडियो: जनसत्ता स्पीड न्यूज़

गौरतलब है कि जस्टिस काटजू ने बिहार पर लिखी फेसबुक पोस्ट में कहा था, ” पाकिस्तानियों, चलो एक बार में ही अपने सारे विवाद खत्म कर लेते हैं। हम आपको कश्मीर देते हैं, लेकिन उसकी एक शर्त है कि आपको पाकिस्तान भी लेना पड़ेगा। यह एक पैकेज डील है। इसके लिए आपको पूरा पैकेज लेना होगा या तो आपको कुछ भी नहीं मिलेगा। या तो आप कश्मीर और बिहार दोनों को लीजिए और नहीं तो कुछ भी नहीं मिलेगा। हम आपको सिर्फ कश्मीर नहीं देंगे।” काटजू ने आगे लिखा था, “टल बिहारी वाजपेयी ने आगरा समिट के दौरान परवेज मुशर्रफ के सामने ये डील रखी थी, लेकिन मूर्खता दिखाते हुए उसने मना कर दिया था। अब यह ऑफर फिर से आया है।” इसके बाद उनका काफी विरोध हुआ था। उनपर देशद्रोह का मुकदमा भी ठोका गया था।

Read Also: मार्कण्डेय काटजू ने पूछा- नगालैंड में नाग होते हैं? आगे लिखा- ये जोक है बिहारियों की तरह मत बरताव करना

काटजू ने यह पोस्ट की थी-

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 7, 2016 10:38 am

सबरंग