ताज़ा खबर
 

फोर्ब्‍स ल‍िस्‍ट में भारत सबसे भ्रष्‍ट, कुमार व‍िश्‍वास ने मोदी पर मारा ताना- बना द‍िया ना नंबर-1

इस ट्वीट पर अभी तक 400 से ज्यादा लोग कमेंट कर चुके हैं, जबकि 1100 से अधिक यूजर्स ने शेयर और 2200 से ज्यादा लोगों ने लाइक किया है।
कुमार विशावस ने फोर्ब्स के इस ट्वीट को शेयर किया है।

फोर्ब्स ने हाल ही में अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट पर पर दुनिया के टॉप-5 भ्रष्ट देशों की को लेकर एक रिपोर्ट शेयर की है, जिसमें भारत नंबर-1 बताया गया है। बता दें कि सूची में दूसरे नंबर पर वियतनाम, तीसरे पर थाईलैंड, चौथे पर पाकिस्तान, जबकि पांचवें पर म्यांमार है। इसे लेकर आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास ने ट्वीट के जरिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है।

कुमार विश्वास ने फोर्ब्स के इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा है कि, पहले ही कहा था “नंबर-1बना दूंगा” बना दिया… सोशल मीडिया यूजर्स इसे पीएम मोदी से जोड़कर देख रहे हैं। इस ट्वीट पर अभी तक 400 से ज्यादा लोग कमेंट कर चुके हैं, जबकि 1100 से अधिक यूजर्स ने शेयर और 2200 से ज्यादा लोगों ने लाइक किया है।

इस पर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया भी दी हैं। विकास का कहना है कि – ‘आप से बड़े सुलझे और व्यवस्थित विचारक है फिर भी बहकी बहकी बातें? राजनीति तो ठीक है पर कुछ भी…जिन सरकारों ने किया है उसे समेटने का समय दीजिए।’ वहीं सुधांशु पांडे नामक एक शख्स ने लिखा, ‘नरेंद्र मोदी धोखा है, देश बचा लो अभी भी मौका है।’

बता दें कि इस रिपोर्ट को तैयार करने के लिए फोर्ब्स की तरफ से 18 महीने का लंबा सर्वे किया गया, जिस दौरान एशिया के 16 देशों के 20 हजार लोगों के बातचीत की गई। भारत के बारे में रिपोर्ट में कहा गया है कि यहां छह सार्वजनिक सेवाओं में से पांच- स्कूलों, पुलिस, अस्पतालों, आईडी दस्तावेज और उपयोगिता सेवाएं पाने के लिए आधे से ज्यादा जनता को रिश्वत देनी पड़ती है। हालांकि भ्रष्टाचार के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लड़ाई ने एक जगह जरूर बनाई है, 53% लोगों का मानना है कि वो काफी अच्छी तरह आगे से जा रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Anand Kumar
    Sep 2, 2017 at 8:36 am
    जिसे ईमानदार समझा वो तो जनता को पता नहीं अब तक कोन सा फायदा के लिए काम किया
    (0)(0)
    Reply
    1. M
      manish agrawal
      Sep 1, 2017 at 10:04 pm
      हिन्दोस्तान के अलावा मज़ाल है किसी मुल्क की भृष्टाचार में अव्वल नंबर लाने की ? पटवारी जैसे मामूली कर्मचारी के यहाँ छापा पड़ता है तो करोड़ों रूपये बरामद होते हैं , फिर प्रथम श्रेणी अधिकारियों की कमाई तो अरबों रूपये होगी ! BSF के चोर और मक्कार अफसर अपने जवानों का बेहतरीन सरकारी राशन ही बेच देते हैं और घटिया भोजन की शिकायत करने वाले वीर जवान तेजबहादुर यादव को ही बर्खास्त कर दिया जाता है ! नमामि गंगे प्रोजेक्ट पर हर साल हज़ारों करोड़ रुपया हज़म कर लिया जाता है और गंगा मैया पहले से भी ज्यादा ी होती जाती है ! किसी भी पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज़ कराने के लिए मोटी रिश्वत देना पड़ती है ! न्याय पाना है तो 5-10 लाख रूपये हर पेशी पर लेने वाले वकील नियुक्त करने पड़ते हैं ! डॉक्टर्स और नर्सिंग स्टाफ की फौज के बाबजूद सरकारी अस्पतालों में सैंकड़ों मासूम बच्चों की दर्दनाक मौत हो जाती है ! जेल अफसरों को रिश्वत देकर कैदियों को घर का भोजन , दवाईयां, नशे का सामान, मोबाइल फ़ोन इत्यादि सारी सुविधा मिल जाती है वहीँ गरीब कैदी , से बदतर जिंदगी गुजारते हैं और बीमारी से बिना इलाज के मर जाते हैं !
      (0)(0)
      Reply
      सबरंग