ताज़ा खबर
 

ट्विटर पर हैशटैग चला केजरीवाल कांग्रेस साथ साथ, जमकर ट्रोल हुए अरविंद केजरीवाल

भारतीय जनता पार्टी के समर्थक इस हैश टैग के साथ कांग्रेस और आम आदमी पार्टी दोनों पर जमकर निशाना साध रहे हैं।
कांग्रेस नेताओं के साथ दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की फाइल फोटो।

दिल्ली निकाय चुनाव के लिए जैसे-जैसे वोटिंग का दिन निकट आ रहा है वैसे ही सभी राजनीतिक पार्टियों के समर्थक भी अपने-अपने तरीके से अपने नेताओं के प्रचार में जुट गए हैं। सोशल मीडिया पर भी चुनावों से पहले लोग अलग-अलग तरह के मुद्दे उठा रहे हैं। आज माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर केजरी कांग्रेस साथ साथ कर के हैशटैग ट्रेंड कर रहा है। भारतीय जनता पार्टी के समर्थक इस हैश टैग के साथ कांग्रेस और आम आदमी पार्टी दोनों पर जमकर निशाना साध रहे हैं। ये हैशटैग चलाने वाले ये कहने की कोशिश कर रहे हैं कि सिर्फ जनता में दिखावे के लिए ये दोनों एक दूसरे के खिलाफ है लेकिन हकीकत ये है कि दोनों साथ ही हैं। इनका कहना है कि चुनावों के बाद दोनों दल एक हो जाएंगे।

 

#केजरी_कांग्रेस_साथ_साथ के साथ यूजर्स ने अरविंद केजरीवाल को कांग्रेस के साथ दिखाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। कुछ यूजर्स हैशटैग करते हुए लिख रहे हैं कि अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली में आम आदमी की सरकार बनेगी तो शीला दीक्षित जेल के अंदर होंगी..लेकिन ऐसा नहीं हुआ। वहीं आम आदमी पार्टी को कांग्रेस का नया रुप बताते हुए कुछ ने ये भी लिखा कि केजरीवाल नई बोतल में पुराना जहर परोस रहे हैं। कुछ यूजर्स ने तो अरविंद केजरीवाल की कपिल सिब्बल और सज्जन सिंह जैसे नेताओं के साथ गले मिलने की तस्वीरें भी शेयर कहीं। फिलहाल जो भी हो ट्विटर पर लोगं ने इस हैश टैग के साथ इतने ट्वीट किये कि ये ट्रेंडिंग बन गया।

 

आपको बता दें कि इस बार चुनाव में 23 अप्रैल को वोटिंग के दौरान दिल्ली के 272 पार्षदों की किस्मत का फैसला होगा। चुनाव आयोग के मुताबिक दिल्ली में 1,32,10,206 वोटर हैं, जिसमें से 73,15,915 पुरुष और 58,93,418 महिला वोटर हैं। वहीं उत्तरी एमसीडी में 42 सीटें महिलाओं के लिए रिजर्व की गई हैं। दक्षिणी एमसीडी में 45 और पूर्वी एमसीडी में 27 सीटें महिला उम्मीदवारों के लिए रिजर्व हैं। वहीं लोगों के मतदान करने की सुविधा के लिए उत्तरी दिल्ली में 5,170, दक्षिणी दिल्ली में 5,074 और पूर्वी दिल्ली में 2,990 पोलिंग स्टेशन बनाए जाएंगे। वहीं सुरक्षा के मद्देनजर लगभग 17 हजार सुरक्षा बल जवानों की तैनाती की जाएगी।

VIDEO: अरविंद केजरीवाल के खिलाफ जारी हुआ जमानती वारंट; पीएम मोदी की शैक्षणिक योग्यता पर की थी टिप्पणी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. M
    MANISH AGRAWAL
    Apr 13, 2017 at 8:31 am
    kya hamaare hazaaron jawans aur military officers ne isliye apni shahaadat di, ki Arvind Kejariwal jese desh ke gaddaar Chief Minister banke Rs 12000 ki thaali khaayen? Surgical Strike par sawaal khade karne wale Arvind Kejariwal se ek saal tak saanp, bichchhoo se bhare huye sarhadi jungles main duty karwaana chahiye, minus degree ke temp aur oxygen ki kami wale Himalayan borders par iski tainaati karna chahiye.tab Arvind Kejariwal ko samajh main aayega ki Air-conditioned car aur bungalow main mauz karne aur desh ke prahari banne main kya difference hai ?
    Reply
  2. M
    MANISH AGRAWAL
    Apr 13, 2017 at 8:21 am
    Arvind Kejariwal aur Congress shuru se hi ek saath hain, isiliye Delhi main milkar govt banaayi thee ye alag baat hai ki wo govt jyada chal nahi paayi kyuki Delhi ki public ke paise ki loot ka batwaaraa Congress aur Arvind Kejariwal theek tarah se kar nahi paaye. khair ! dowaara election huye aur Delhi ki public ne Arvind Kejariwal ko total 70 seats main se 67 seats di, taaki sadiyon ka bhukhamaraa ye chor Kejariwal Rs 12000 ki thaali khaa sake ! ye dhokhebaaz Arvind Kejariwal , corruption ke khilaaph nautanki karta hua election jeeta lekin chaarachor Laluprasad Yadav ke saath manch par gale mila. Arvind Kejariwal, Rashtradroh ka prateek hai kyuki stan main ki i Surgical Strike par sawaal khade karke Indian Army ki insult ki, yahi nahi JNU main Rashtravirodhi naare lagaane wale deshdrohiyon ka bhi ye kahakar support kiya ki "freedom of speech"nahi roki jaa sakti. kya Hindostan ke tukde hone ke naare lagaane ka freedom diya jaa sakta hai?
    Reply
सबरंग