ताज़ा खबर
 

गोरखपुर: योगी पर भड़का जी न्यूज का पत्रकार, बोला- बच्चों को मारने का पाप किया, ये कैसा राजधर्म?

"सिद्धार्थ नाथ सिंह यूपी में बस पार्ट टाइम स्वास्थ्य मंत्री हैं, परिवार समेत दिल्ली रहते हैं और 3 लोग डेंगू से मर जाएं तो चिंता भी जताते हैं।"
Author नई दिल्ली | August 12, 2017 18:33 pm
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ।

गोरखपुर में सरकारी मेडिकल कॉलेज में 63 बच्चों की मौत के मामले में विपक्ष ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। विपक्षी पार्टियां योगी से इस्तीफे की मांग कर रही हैं। सोशल मीडिया पर भी लोग इस घटना के कारण योगी सरकार की आलोचना कर रहे हैं। पत्रकार रोहित सरदाना ने योगी पर निशाना साधते हुए सवाल किया। सरदाना ने अपने ट्वीट में लिखा- “पहले गोरखपुर में बच्चों को मारने का पाप किया। फिर झूठ बोल कर महापाप। ये कौन सा राजधर्म है योगी जी?” वहीं, दूसरी ओर जी न्यूज के और पत्रकार सुधीर चौधरी ने भी योगी सरकार पर हमला बोलते हुए लिखा- सभी लोगों को यह पत्र पढ़ना चाहिए। यह सरकार के खराब प्रशासन और असंवेदनशीलता को दर्शाता है। यह कोई हादसा नहीं है ये हत्या है।

रोहित सरदाना के ट्वीट पर लोगों ने यूपी सरकार को जमकर खरी खोटी सुनाई। भैया जी नाम के एक यूजर ने लिखा- “सिद्धार्थ नाथ सिंह यूपी में बस पार्ट टाइम स्वास्थ्य मंत्री हैं, परिवार समेत दिल्ली रहते हैं और 3 लोग डेंगू से मर जाएं तो चिंता भी जताते हैं।” विनय प्रजापति नाम के यूजर ने लिखा- “हर बात पर अफसरों के इस्तीफे लेने वाले, बच्चों की मौत की जिम्मेदारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्री का इस्तीफा मांगेगे? अनिल कुमार रस्तोगी ने लिखा- “संवेदनाये जब डॉक्टर और अस्पतालों के कर्मचारियों की खत्म हो जायेंगी तो परिणाम यही होता है। सरकार कठोर नियम लाये तो यूनियन बाज़ी होने लगती है।”

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के गढ़ गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई बंद होने से हुई मौत का आंकड़ा बढ़कर 63 हो गया है। आज (12 अगस्त को) भी 11 साल के एक बच्चे ने दम तोड़ दिया। वह भी इन्सेफ्लाइटिस से पीड़ित था। राज्य के सरकार ने इस बात को खारिज कर दिया है कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से किसी की मौत हुई है। योगी सरकार में स्वास्थय मंत्री सिद्धार्थ नाम सिंह ने इस मामले पर राजनीति न करने की अपील की है जबकि विपक्षी पार्टियां नैतिकता के आधार पर इस्तीफे का मांग कर रहा हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. G
    gopaldas
    Aug 12, 2017 at 9:01 pm
    इन बच्चों ने आत्महत्या की है इसमें योगी जी का दोष नहीं है .योगी जी तो अब तक कई हज़ार ट्राँसफर करवा चुके हैं .मदरसों की विडिओग्राफी करवा रहे हैं गौ माता के सेवा मैं दिन रात एक किये हुए हैं .उन बच्चो के माता पिता को आत्महत्या के लिए उकसाने का केस बना कर तुरंत गिरफ्तार करलेना चाहिए.न्यूज़ चैनल और अख़बारों के लाइसेंस निरस्त करदेने चाहियें ी,सा करने से सब के मुहं बंद हो जायेंगे और सब गौ सेवा मैं लगजायेंगे .गौ माता की जय
    Reply
  2. आनन्द मोहन सक्सेना
    Aug 12, 2017 at 7:28 pm
    इस मौत का तकनीकी अपराध यह है कि हमारा सबसे खराब वोटिंग सिस्टम प्रणाली, अब इस सिस्टम को खारिज कर के नया सिस्टम बनाया जाये, तभी जनता का भला होगा
    Reply
सबरंग