ताज़ा खबर
 

रिसॉर्ट पर रेड को कांग्रेस ने बताया गंदी राजनीति, कमेंट आया- मोदी मारता कम, घसीटता ज्‍यादा है

इस रिजॉर्ट में गुजरात के 44 कांग्रेस विधायक ठहरे हुए हैं। विभाग ने दिल्ली निवास पर छापेमारी से 5 करोड़ रुपये बरामद किए हैं।
कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (फाइल फोटो)

बेंगलुरु में कांग्रेस विधायकों वाले रिसॉर्ट पर की गई आयकर विभाग की छापोमारी को कांग्रेस ने गंदी राजनीति बताया है। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा हर तरह की गंदी राजनीतिक चाल के जरिए गुजरात की राज्यसभा सीट जीतना चाहती है। सुरजेवाला ने कहा, “गुजरात में विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई। जब सब कुछ नाकाम रहा तो हताश भाजपा सरकार ने कांग्रेस रिसॉर्ट पर आयकर की छापेमारी करा दी।” कांग्रेस प्रवक्ता के इस बयान को न्यूज एजेंसी एएनआई ने ट्वीट के जरिए बताया है। बयान पर कई ट्वीटर यूदर्स ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर ने तो यहां तक लिख दिया कि “मोदी मारता कम, घसीटता ज्‍यादा है.”

क्या है मामला:
आयकर विभाग ने बुधवार को कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डी के शिवकुमार के कर्नाटक और दिल्ली स्थित कई ठिकानों की तलाशी ली। आयकर विभाग के अधिकारियों की एक टीम मंत्री से पूछताछ के लिए समीपवर्ती इगलटन रिजॉर्ट पहुंची। इस रिजॉर्ट में गुजरात के 44 कांग्रेस विधायक ठहरे हुए हैं। विभाग ने उनके दिल्ली निवास पर छापेमारी से 5 करोड़ रुपये बरामद किए हैं। गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में गुजरात के 57 में से छह कांग्रेस विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया, जहां से वरिष्ठ पार्टी नेता अहमद पटेल चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें से तीन शुक्रवार को भाजपा में शामिल हो गये। पार्टी को आशंका है कि अधिक विधायकों के दल बदलने से पटेल की जीत की संभावनाओं पर असर पड़ेगा।

कौन हैं डीके शिवकुमार:
डीके शिवकुमार कर्नाटक कांग्रेस के बड़े नेता हैं और वह राज्य सरकार में ऊर्जा मंत्री हैं। उन्हें सोनिया गांधी का करीबी माना जाता है। शिवकुमार ही बेंगलुरु के ईगलटन रिसॉर्ट में ठहरे हैं गुजराती विधायकों की मेजबानी कर रहे हैं। डीके शिवकुमार के भाई डीके सुरेश बेंगलुरु ग्रामीण से सांसद हैं। ईगलटन रिसॉर्ट इसी इलाके में स्थित है। शिवकुमार राज्यसभा चुनाव तक बेंगलुरु के रिजॉर्ट में लाये गये गुजरात के अपने पार्टी विधायकों की मेजबानी कर रहे हैं। कांग्रेस की गुजरात इकाई के छह विधायकों के पार्टी छोड़ने के बाद अन्य पार्टी विधायकों को यहां लाया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग