ताज़ा खबर
 

GST पर पी चिदंबरम का तंज, थैंक्स गुजरात- जो संसद न दे सकी, वो तुमने दिया, लोग बोले- मोदी भी तो दिया

जीएसटी काउंसिल की लंबी बैठक के बाद शुक्रवार (10 नवंबर) को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जीएसटी रेट में बदलाव का एलान किया था।
पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम। (फाइल फोटो)

पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने 178 सामानों पर से 28 फीसदी जीएसटी हटाने पर तंज कसा है। जीएसटी काउंसिल की लंबी बैठक के बाद शुक्रवार (10 नवंबर) को केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जीएसटी रेट में बदलाव का एलान किया था। इसके बाद ट्विटर पर चिदंबरम ने लिखा, “थैंक यू गुजरात, तुम्हारे चुनाव ने वो कर दिखाया जो संसद और कॉमन सेन्स नहीं कर सका।” चिदंबरम के इस ट्वीट पर कई लोगों ने प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर ने लिखा है, “आप गुजरात को इसलिए भी धन्यवाद दीजिए क्योंकि उसने देश को नरेंद्र मोदी भी दिया। यह गुजरात की जनता के कारण हो सका कि आज हमारे पास एक सक्षम और चमत्कारी प्रधानमंत्री है।”

दूसरे यूजर ने कहा, “यह गुजरात ही है, जिसने देश को गांधी जी, सरदार पटेल, मोरारजी देसाई और नरेंद्र मोदी के अलावा बहुत कुछ दिया। हम गुजराती लोग सर्वोत्तम के हकदार हैं।” एक अन्य यूजर ने पी चिदंबरम को सपोर्ट करते हुए लिखा है, “गुजरात चुनाव के चलते GST मे परिवर्तन किया है एक बार गुजरात हराओ सारी अक्ल ठिकाने आ जायेगे और जो लूट रही है सरकार वो तुरंत बंद कर देगी।” इसी से मिलती जुलती प्रतिक्रिया एक और यूजर ने दी है। उसने लिखा है, “गुजरात चुनाव की वजह से ही जीएसटी रेट में कटौती हो सकी है।”

गौरतलब है कि जीएसटी में 28 फीसदी टैक्स के दायरे में आने वाले 177 सामानों पर टैक्स कम करके उन्हें 18 फीसदी टैक्स स्लैब के दायरे में लाया गया है। जीएसटी काउंसिल की बैठक में 28 फीसदी जीएसटी दायरे में अब सिर्फ 50 आइटम ही रखे जाएंगे। जीएसटी काउंसिल ने ऑफ्टर शेव, चॉकलेट्स, च्विंइग गम, डिओडरेंट, वॉशिंग पाउडर, डिटर्जेंट और मार्बल जैसे आइटम्स को 28% के दायरे से घटा कर 18% के दायरे में ला दिया है। जीएसटी की तकनीक संबंधी गतिविधियों को मॉनिटर करने के लिए एक ग्रुप बनाया गया था। इस ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स में 5 सदस्य हैं, जिसके प्रमुख सुशील कुमार मोदी हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.