ताज़ा खबर
 

VIDEO: …जब अनुपम खेर ने क‍िया पीएम का बचाव तो कप‍िल म‍िश्रा ने द‍िया था जवाब- हम अपने बाप को दे सकते हैं गाली, बशर्ते..

इस वीडियो को 48 घंटे से भी कम समय में 16 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं।
दिल्ली के पूर्व मंत्री कपिल मिश्रा। (FILE PHOTO)

सोशल मीडिया पर एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में बॉलीवुड एक्टर अनुपम खेर और आम आदमी पार्टी से निष्कासित मंत्री कपिल मिश्रा के बीच मंच पर ही तीखी बहस को दिखाया गया है। वीडियो में फ्रीडम ऑफ स्पीच पर बहस हो रही है। इस पर बोलते हुए अनुपम खेर वहां मौजूद लोगों से कहते हैं कि क्या आप लोग घर में अपने पिता को गाली दे सकते हैं..? अगर नहीं तो फिर फ्रीडम ऑफ स्पीच का सहारा लेते हुए प्रधानमत्री को कैसे गाली दे सकते हैं। जो रूल आप घर में इस्तेमाल करते हैं वो देश के लिए क्यों नहीं कर सकते। अनुपम खेर ने कहा कि अगर आप घर में अपने पिता को थप्पड़ नहीं मार सकते तो प्रधानमंत्री के लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल क्यों करते हैं। ये वीडियो थोड़ा पुराना है लेकिन सोशल मीडिया पर फिर से वायरल हो रहा है। दरअसल कपिल मिश्रा ने आम आदमी पार्टी पर जो आरोप लगाए हैं उसके चलते वो सुर्खियों में बने हैं। इसी के बाद कपिल मिश्रा का ये पुराना वीडियो सोशल मीडिया पर फिर से वायरल हो रहा है।

वीडियो में दिख रहा है कि फ्रीडम ऑफ स्पीच पर अमुपम खेर की बात का वो अपने ही अंदाज में जवाब दे रहे हैं। अनुपम खेर के उस सवाल पर जिसमें वो पूछते हैं कि क्या हम अपने पिता को गाली दे सकते हैं, पर जवाब देते हुए कपिल कहते हैं कि जी हां दे सकते हैं अगर हम उन्हें वोट देकर अपना बाप चुनते। कपिल मिश्रा ने प्रधानमंत्री के मन की बात को निशाना बनाते हुए कहा कि क्या मन की बात सिर्फ पीएम ही कर सकते हैं..हम क्यों नहीं कर सकते।

कपिल मिश्रा के इस वीडियो को रजनीकांत वर्सेज़ सीआईडी जोक्स ने शेयर किया है। इस वीडियो को 48 घंटे से भी कम समय में 16 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं। इस फेसबुक पेज से इस वीडियो को लगभग 20 हजार लोग शेयर भी कर चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    Raj Kumar
    May 9, 2017 at 7:03 am
    साहब शायद आप भूल गए हैं कि, 2014 से पहले भी दिल्ली की कुर्सी पर प्रधानमंत्री जी ही थे,,,जिनके लिए आप सबके मुँह से फूल बरसते थे,,,छोड़िए आज भी विपक्ष में भी जनप्रतिनिधि ही हैं, जिनके सम्मान में आप सब न जाने क्या-क्या कहते हैं,,,! जो बोया बीज बबूल का तो,,,,,!
    (0)(0)
    Reply