ताज़ा खबर
 

पता नहीं अहमदाबाद में मस्‍ज‍िद क्‍यों चले गए मोदी और मंदि‍र को ढंकवा द‍िया- सोशल मीड‍िया पर लोग कस रहे तंज

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के गुजरात की सैय्यद मस्जिद दौरे को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, साथ में हैं जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे।

गुजरात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जापान के अपने समकक्षी शिंजो आबे को लेकर बुधवार को सैय्यद मस्जिद गए। उनके मस्‍ज‍िद दौरे को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसा है। एक फेसबुक यूजर वैभव पटेल लिखते हैं, ‘मंदिर छिपाकर मस्जिद के दर्शन करा रहे हो मोदी जी। क्या बात है।’ मेराज अख्तर लिखते हैं, ‘पता नहीं अहमदाबाद में मस्‍ज‍िद क्‍यों चले गए मोदी और मंदि‍र को ढंकवा द‍िया।’ दरअसल, आबे के पहुंचने से पहले अहमदाबाद में कुछ जगह सड़क किनारे हरे कपड़ों के पर्दे डाले गए। इन कपड़ों के पीछे एक मंद‍िर भी ढंक गया। इसे लेकर सोशल मीड‍िया यूजर्स तरह-तरह के कमेंट कर रहे हैं। Unofficial: Subramanian Swamy फेसबुक अकाउंट से इसकी कुछ तस्‍वीरें शेयर की गईं। साथ ही लिखा गया है, ‘जापानी पीएम के गुजरात दौरे से पहले अहमदाबाद में मलिन बस्तियों को हरे कपड़े से छिपा दिया गया। जबकि साल 2012 में गुजरात का सीएम रहते मोदी ने कहा था कि उन्होंने गुजरात में गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) रहने वाले लोगों को मकान मुहैया कराकर रिकॉर्ड बनाया है।’ फेसबुक पोस्ट में कुल तीन तस्वीरों को शेयर किया गया है। दो तस्वीरों में सड़क के पिछले हिस्से को ढंका गया है। सड़क के पिछले हिस्से में एक छोटा मंदिर भी नजर आ रहा है। इस तस्वीर पर कई यूजर्स ने गहरी नाराजगी जताई है।

सलमान खान पठान एक और तस्वीर शेयर कर लिखते हैं, ‘ये है पर्दे के पीछे।’ सलमान ने जिस तस्वीर को शेयर है उसमें जापानी पीएम के स्वागत के लिए लगाया बड़ा सा होर्डिंग्स नजर आ रहा है जबकि दूसरी तस्वीर में कुछ बच्चे वहां खेल रहे हैं। यशराज सिंह व्‍यंग्‍यात्‍मक अंदाज में लिखते हैं, ‘ये झुग्गियां भी तकनीकी कारणों से मौजूद हैं। ये वास्तव में मौजूद नहीं हैं। ये सब भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस द्वारा किया गया है।’ इम्मी पटेल लिखती हैं, ‘संघ के लोग हरे कपड़े के इस्तेमाल से नाराज हो गए।’ साहिल अरोड़ा लिखते हैं, ‘जो आदमी गुजरात में तीन बार मेट्रो का वादा करके मेट्रो नहीं चला पाया वो आज बुलेट ट्रेन का जुमला लेकर फिर वापस आया है।’

जॉनसन लिखते हैं, ‘अधिकतकर झुग्गी-झोपड़ी गुजरात में हैं।’ साल्वे लिखते हैं, ‘जापान को मस्जिद दिखाने के लिए मंदिर छिपा दिया गया।’ इमरान खान लिखते हैं, ‘यहां फोटोशॉप से काम नहीं बना तो पर्दा डाल दिया। वरना भाजपा ने फोटोशॉप करने की बहुत कोशिश की थी। सड़क के किनारे ऊंची-ऊंची इमारतें खड़ी करके।’ शाहिद इकबाल लिखते हैं, ‘पूरे गुजरात में पाकिस्तानी झंडा। यकीन नहीं होता।’

जानकारी के लिए बता दें कि इससे पहले शिंजो आबे के गुजरात की सैय्यद मस्जिद दौरे पर अखिल भारतीय हिंदू महासभा भी सख्त नाराजगी जता चुका है। शिंजो आबे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ सैय्यद मस्जिद पहुंचे थे। हिंदू महासभा ने पीएम मोदी के इस कदम को भारतीय संस्कृति के खिलाफ करार दिया है। महसभा ने कहा है कि भारत के हिंदू इसे कभी माफ नहीं करेंगे। पीएम मोदी के इस कदम से देशभर की हिंदुओं की भावनाएं आहत हुई हैं। हिंदू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार ने कहा, ‘शिंजो आबे को मस्जिद दौरे की जगह सोमनाथ मंदिर, द्वारका और ज्योतिर्लिंग के दर्शन करने चाहिए थे। भारत एक हिंदू राष्ट्र है। हिंदू राष्ट्र के रूप में ही भारत की पहचान है। भगवान शिव, राम और कृष्ण भारत की संस्कृति के प्रतीक हैं। इसलिए जापान के प्रधानमंत्री को गुजरात में स्थित हिंदू-देवी देवताओं के भव्य मंदिरों का दर्शन करना चाहिए था। मगर ऐसा ना कर भारत के प्रधानमंत्री ने हिंदू और भारत विरोधी और भारतीय संस्कृति का विरोध करने का काम किया है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. N
    NAVNEET MANI
    Sep 15, 2017 at 3:35 am
    If Modi takes Japanese PM to a temple then he will be called "communal". Now he has visited mosque with Abe and that's why he has now become "anti-Hindu". There are so many certification agencies in India that has a sole agenda of targeting Modiji anyhow.
    (0)(1)
    Reply
    1. T
      tarsame singh
      Sep 14, 2017 at 8:38 pm
      वाराणसी मैं मैं गंगा पुत्र हूँ .अयोध्या मैं मैं राम केवल राम का सेवक हूँ सोमनाथ मैं मैं केवक शिव भक्त हूँ पोरबंदर मैं में गाँधी जी को भगवन मंटा हूँ नागपुर मैं मैं गोडसे का भक्त हूँ . असल मैं मैं किसी का भी नहीं हूँ अपने वोटर का भी नहीं हूँ ...बताओ मैं कौन हूँ?....मेरी तोबा भी कोई तोबा है ....जब बहार आयी है तोड़ डाली है
      (5)(0)
      Reply
      1. A
        abdul
        Sep 15, 2017 at 12:47 am
        Bhai Modi Je Ke Liye Ek Shaer arz karta Hoon... Mazhab ko mere mujhse Kya pochte ho Munni.. Shia ke Sath Shia..Sunni Ke Sath Sunni...
        (2)(0)
        Reply
      2. B
        bharti
        Sep 14, 2017 at 7:17 pm
        मोदी जी ने आबे को भगवत गीता की जगह एक ऐसे आदमी की जीवनी भेंट की जिसे गोडसे ने मार दिया था. मोदी उस आदमी को ज़िंदा करने की कोशिस कर रहें हैं . गीता और गोडसे का अपमान हिन्दू कभी भी न नहीं कर सकते.
        (0)(0)
        Reply
        1. T
          tarsame singh
          Sep 14, 2017 at 7:12 pm
          मोदी जी बहुत बड़े सेल्स मैन हैं मिटटी के तेल को भी दूध बता कर बेचने की ख्यामता रखते हैं
          (2)(0)
          Reply
          1. D
            Dev Verma
            Sep 15, 2017 at 4:55 pm
            Absolutely Modi has a brain and few people have milk but still thinking its oil (tel) never saw so many dumboo's altogether in India...This is real secularism of India if still don't understand go and check up with good doctor. Wake up man....
            (0)(0)
            Reply
          सबरंग