December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

केरल में नोट बदलने के दौरान लुंगी के चलते वायरल हुई यह तस्वीर

केरल के कोझिकोड के डीएम प्रशांत नायर ने यह फोटो अपनी फेसबुक वॉल पर डाली थी। जो कि किसी अखबार की है। नायर ने उल्लेख किया कि बुनियादी फर्क कतार की लंबाई में नहीं है, बल्कि दिखने में।

एटीएम के सामने खड़ी लंबी कतार। (Representative Image)

मोदी सरकार की ओर से 500 और 1000 रुपए के नोट बंद करने के फैसले के बाद सोशल मीडिया पर इसको लेकर जोक्स और फनी कंटेट शेयर और पोस्ट किए जा रहे हैं। एक तरह हर राज्य और समुदाय इस नोटबंदी से प्रभावित हुआ है तो दूसरे तरफ सब अपनी-अपनी तरह से इस फैसले पर मजाक उड़ा रहे हैं। हालांकि देश की अधिकांश जनता ने सरकार के इस फैसले के प्रति खुशी जताई है। ऐसा ही एक जोक सोशल मीडिया पर सामने आया है, जिसमें राज्य के लोगों पर निशाना साधा है। जोक में केरल की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया गया है, “या तो शराब की दुकानों पर पुराने नोटों के चलने की अनुमति दे दीजिए या बैंकों को शराब बेचने का आदेश दे दिए। हम रोज दो लाइन में नहीं लग सकते।” हाल ही में एक केरल से और तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी, जिसमें बैंकों में भीड़ से बचने के लिए लोगों ने अनोखा तरीका निकाला था। लोगों ने अपनी जगह पत्थर, बोतल जैसी चीजें लाइन में लगाई थी।

केरल के कोझिकोड के डीएम प्रशांत नायर ने यह फोटो अपनी फेसबुक वॉल पर डाली थी। जो कि किसी अखबार की है। नायर ने उल्लेख किया कि बुनियादी फर्क कतार की लंबाई में नहीं है, बल्कि दिखने में। बैंक के बाहर खड़े लाइन में लोगों ने लुंगी नीचे कर रखी है जबकि शराब के लिए खड़े लोगों ने लुंगी ऊपर की हुई है। दक्षिण भारतीय परंपरा के मुताबिक मान्यता है कि जब लोगं मंदिर या किसी धार्मिक स्थल पर जाते हैं, जहां अनुसाशन और शीलता बनाए रखना जरुरी होता है, वहां लुंगी नीचे करके जाया जाता है। वहीं इसके उल्ट जब लोग काम करते या चलने में दिक्कत होती है तो लुंगी ऊपर करते हैं।

नायर का यह पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। तीन घंटे में 6 हजार से ज्यादा लोग लाइक कर चुके हैं और 600 से ज्यादा लोग इसे शेयर कर चुके हैं। लोग इस पोस्ट पर अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं। एक शख्स ने कहा- एक में लंबी डाउन है, वहीं दूसरे तरह जिस फोटो में लुंगी ऊपर है उसका मतलब है कि ट्रांजेक्शन सफल हो गया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 19, 2016 6:00 pm

सबरंग