December 07, 2016

ताज़ा खबर

 

500-1000 के अवैध नोटों को धड़ाधड़ 100-100 के नोटों में बदल देती है मशीन, वायरल हुआ वीडियो

इस पूरे तनाव के बीच अगर हमारे पास कोई करंसी कनवर्टर होता तो कैसा होता?

अवैध नोटों को धड़ाधड़ वैध नोटों में बदलने वाली मशीन का यह वीडियो वायरल हो रहा है। (Source: Screenshot)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 8 नवंबर को 500 व 1000 रुपए के नोट बंद करने के ऐलान ने देश को हिलाकर रख दिया है। लोग रोजमर्रा की जरूरतों के लिए कैश की कमी से जूझ रहे हैं क्‍योंकि उनके पास पर्याप्‍त मात्रा में वैध करंसी नहीं है। बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी-लंबी लाइनें लगी हैं। स्थिति में अगले सप्‍ताह भर तक ज्‍यादा बदलाव की उम्‍मीद नहीं है। हजारों लोगों ने पिछले तीन दिनों में बैंक का रुख किया और खाली हाथ लौटे क्‍योंकि बैंकों में कैश खत्‍म हो गया था, एटीएम के साथ ही यही हालत है। बैंकों में कैश डिपॉजिट, कैश एक्‍सचेंज और अन्‍य प्रक्रियाओं के लिए अलग-अलग लाइनें लगाई गई हैं, लेकिन हर लाइन में सैकड़ों लोग लगे हुए थे, खासकर सरकारी बैंकों में। इस बीच देशभर में लंबी कतारों में अपनी बारी का इंतजार करते-करते तीन लोगों की माैत की खबर अाई है। कुछ अस्‍पतालों ने 500 और 1000 रुपए की नोट स्‍वीकारने से मना कर दिया है, जबकि सरकार ने पुराने नोट्स लिए जाने की तारीख 14 नवंबर तक बढ़ा दी है। दैनिक मजदूरों और छोटे स्‍तर के व्‍यापारियों को इस कदम से खासा नुकसान पहुंचा है।

500, 1000 के नोट बदलवाते वक्‍त हो सकती है धोखाधड़ी, बचने के लिए देखें वीडियो: 

राष्‍ट्र के नाम अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद माना था कि इस कदम की घोषणा के बाद अगले कुछ दिन मुश्किल भरे होंगे। उन्‍होंने कहा था, ”इससे आपको थोड़ी तकलीफ होगी, लेकिन इन तकलीफों को नजरअंदाज करते हैं। इस देश के इतिहास में, मौका आ गया है जब लोग राष्‍ट्र निर्माण और पुर्ननिर्माण में योगदान देना चाहते हैं। ऐसे बेहद कम अवसर जिंदगी में आते हैं।”

इस पूरे तनाव के बीच अगर हमारे पास कोई करंसी कनवर्टर होता तो कैसा होता? एक ऐसा कनवर्टर जो अवैध करंसी को इस्‍तेमाल लायक करंसी में बदल दे। ऐसी ही एक चीज इस वक्‍त सोशल मीडिया पर खूब शेयर की जा रही है और लोग यही दुआ कर रहे हैं काश ऐसी कोई चीज होती।

यह मजेदार वीडियो यहां देखें: 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 12, 2016 5:37 pm

सबरंग