ताज़ा खबर
 

लव लाइफ या फिर बॉस से हैं परेशान तो “ब्रेक रूम” करेगा आपकी हेल्प, चीजों को तोड़कर यहां उतारे गुस्सा

हम मजाक नहीं कर रहे हैं, यब बिल्कुल सही है। यहां तक चीजों को तोड़ने के लिए आपके पास ऑप्शन भी है कि आप क्रिकेट बैट या फिर बेसबॉल बैट में किसे चुनना चाहते हैं।
Author गुडगांव | February 15, 2017 18:02 pm
गुस्सा कम करने आपकी मदद करेगा ब्रेक रूम। (Photo Source: Facebook/Break Room)

लव लाइफ से परेशान है, बॉस के साथ झगड़ा हुआ या फिर नॉर्मल गुस्सा है? किसी भी कंडीशन में अक्सर आपके आसपास की चीजों का नुकसान होता है। परेशान होने पर आप अपना गुस्सा चीजों पर निकालते हैं, जिसके लिए शायद आपको बाद में पछताना भी पड़ता है। लेकिन उस समय आप अपने गुस्से के आगे सबकुछ भूल जाते हैं। बाद में जब गुस्सा शांत होता है तो आपको अपनी गलती का एहसास होता है। गुस्से का शिकार आपका कीमती मोबाइल फोन, लैपटॉप, कम्प्यूटर या फिर टीवी होता है। आपकी इसी परेशानी को देखते हुए ‘द ब्रेक रूम’ खोला गया। इस ब्रेक रूम वेंचर की खासियत यह है कि आप यहां मौजूद किसी को चीज को तोड़ सकते हैं। यह ब्रेक रूम राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र गुडगांव में है। आप यहां मौजूद किसी भी चीज या फिर हर चीज को बैट से तोड़ सकते हैं अगर आप उसके पैसे चुका सकते हैं तो।

हम मजाक नहीं कर रहे हैं, यब बिल्कुल सही है। यहां तक चीजों को तोड़ने के लिए आपके पास ऑप्शन भी है कि आप क्रिकेट बैट या फिर बेसबॉल बैट में किसे चुनना चाहते हैं। ग्राहकों कमरे में रखे सामान जैसे कप, प्लेट्स, कम्प्यूटर्स और टेलीविजन को तोड़ने से पहले सुरक्षा भी दी जाती है। अगर आप अगली बार हिंसक तरह से अपनी कुंठाओं को निकालना चाहते हैं तो ब्रेक रूम आपके काम आ सकता है।

गौरतलब है कि इस तरह लोगों के गुस्सों को काबू करने का ट्रेंड पूरी दुनिया में है। यह सब 2008 में शुरू हुआ जब पहली बार 2008 में टेक्सास में पहला Anger Room खोला गया। यह पूरी दुनिया में फेमस हुआ। हाल के सालों में इसी तरह का वेंचर डलास, मेलबर्न, टोरोंटो और साइबेरिया में Rage Room या Anger Room के नाम से शुरू किया गया। इसी से प्रभावित होकर ब्रेक रूम के निर्माताओं ने इस वेंचर को भारत में खोला है। इसके लिए आपको हर चीज को तोड़ने से पहले उसकी कीमत अदा करनी होती है।

ट्रेंडिंग सेक्शन की  अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on February 15, 2017 6:02 pm

  1. No Comments.
सबरंग