December 03, 2016

ताज़ा खबर

 

Book my chotu पर मिलता है एटीएम,बैंक की लाइन में लगने के लिए हेल्पर, घंटों के हिसाब से करना होगा इतना पेमेंट

500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने से परेशान लोगों की मदद करने के लिए एक वेबसाइट शुरू की गई है।

Book My Chotu वेबसाइट फिलहाल दिल्ली और एनसीआर में सर्विस दे रही है।

500 और 1000 रुपए के नोट बंद होने से परेशान लोगों की मदद करने के लिए एक वेबसाइट शुरू की गई है। यह वेबसाइट उन लोगों की मदद के लिए है जो बैंक और एटीएम के बाहर लगने वाली लाइन में खड़े होकर परेशान और थक चुके हैं। इस वेबसाइट का नाम BookMyChotu है। इसकी मदद से लाइन में लगने के लिए किसी एक शख्स को बुलाया जा सकता है। हेल्पर आपके लिए लाइन में खड़े होने के लिए चार्ज भी करेगा। वेबसाइट के मुताबिक, एक घंटे के लिए 90 रुपए, दो घंटे के लिए 170 रुपए, तीन घंटे के लिए 260 रुपए, चार घंटे के लिए 330 रुपए, पांच घंटे के लिए 380 रुपए, छह घंटे के लिए 450 रुपए, सात घंटे के लिए 500 रुपए और आठ घंटे के लिए 550 रुपए चार्ज लगेगा। इस वेबसाइट की मदद से बाकी कामों के लिए भी लोगों को बुलाया जा सकता है। जैसे आपको घर का सामान शिफ्ट करना है या साफ सफाई में मदद चाहिए। सबके लिए लोगों को बुलाया जा सकता है।

अभी यह वेबसाइट दिल्ली और एनसीआर में सर्विस दे रही है। लिखा गया है कि उनकी तरफ से मदद के लिए भेजे गए लोग बैंक के बाहर ही लाइन में लगेंगे यानी अंदर नहीं जाएंगे। इसके साथ ही बताया गया है कि उनके वेबसाइट के नाम में ही छोटू है, लेकिन वहां काम करने वाले सभी लोग 18 साल से ऊपर के हैं।

गौरतलब है कि मोदी सरकार द्वारा 8 नवंबर को नोटबंदी का ऐलान किया गया था। उसमें बताया गया था कि 500 और 1000 के नोट 30 दिसंबर 2016 के बाद से नहीं चला करेंगे। इसके साथ ही 2000 और 500 रुपए के नए नोटों के आने की जानकारी भी दी गई थी। तब से ही बैंक और एटीएम के बाहर लोगों की लाइन खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। लोग अपने नोट बदलवाने के लिए बैंकों के चक्कर काटने को मजबूर हैं।

इस वक्त की ताजा खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें

वीडियो: नोटबंदी के फैसले पर पीएम नरेंद्र मोदी ने मांगी जनता की राय, जानिए कैसे दे सकते हैं फीडबैक

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 22, 2016 6:51 pm

सबरंग