ताज़ा खबर
 

हाथों में मोमबत्‍ती लेकर खिलखिलाते हुए मेयर-डिप्‍टी मेयर ने दी शहीदों को ‘श्रद्धांजलि’

तस्‍वीर में लाल कुर्ते व हरी साड़ी में नजर आ रहे लोग बिहार के भागलपुर के मेयर व डिप्‍टी मेयर हैं।
Author नई दिल्ली | September 21, 2016 19:13 pm
तस्‍वीर में दिख रहे ज्‍यादातर लोग हाथ में मोमबत्‍ती लिए मुस्‍कुरा रहे हैं। (Source: Facebook)

उरी हमले के बाद सोशल मीडिया पर तीखी प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। 18 जवानों की शहादत पर दुख प्रकट करने के बीच फेसबुक पर एक तस्‍वीर वायरल हो रही है। बताया जा रहा है कि यह तस्‍वीर उरी हमले के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए निकाले गए कैंडिल मार्च की है जिसमें शामिल हुए लोग हंसते-खिलखिलाते नजर आ रहे हैं। तस्‍वीर में लाल कुर्ते व हरी साड़ी में नजर आ रहे लोग बिहार के भागलपुर के मेयर व डिप्‍टी मेयर हैं। श्रद्धांजलि सभा में हंसी-मजाक करते जन-प्रतिनिधियों की इन तस्‍वीरों को देखकर सोशल मीडिया यूजर्स भड़क गए हैं। एक यूजर ने इस तस्‍वीर पर कमेंट किया है- ”ऐसा लग ही नहीं रहा हैं कैंडिल मार्च कर के शहीदों के आत्मा को शांति दिलवा रही हैं या कैंडिल लाइट का डिनर कर रही हैं।” वहीं एक अन्‍य यूजर लिखते हैं- ”ऐसे लोगों की वजह से ही तो हमारे देश के जवानों का परिहास हो रहा है सर। जिनकी वजह से ऐसे लोग सुरक्षित हो कर अपनी राजनीति चमकाते हैं पर बेशर्मी की सभी सीमा पार कर देते हैं….ये बुद्धि‍जीवी नहीं हो सकते, बुद्धि‍हीनता का परिचय दे रहे हैं तो बुद्धि‍हीन ही कहे जायेंगे।”

रविवार (18 सितंबर) को जम्मू-कश्मीर के उरी में हुए आंतकी हमले में मारे गए 18 जवानों के परिजनों में सरकार के खिलाफ आक्रोश है। हमले में शामिल चारों आतंकी जवाबी कार्रवाई में मारे गए। हमले में 20 सैनिक घायल भी हुए। शहीदों के परिजन सरकार से आंतकवाद के खिलाफ जवाबी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर उरी हमले को लेकर काफी तीखे पोस्‍ट किए जा रहे हैं। केन्‍द्र सरकार से मांग की जा रही है कि इस बार पाकिस्‍तान को उसी की भाषा में करारा जवाब दिया जाए। जम्मू-कश्मीर में 8 जुलाई को हिज्बुल मुजाहिद्दीन कमांडर बुरहान वानी के मुठभेड़ में मारे जाने के बाद से ही अशांति फैली हुई है। वानी की मौत के बाद विभिन्न विरोध प्रदर्शनों में अब तक तीन पुलिसवालों समेत 75 लोगों की मौत हो चुकी है। भारत का दावा है कि कश्मीर में हिंसा को पाकिस्तान बढ़ावा दे रहा है। गिलानी एवं अन्य अलगाववादी नेताओं ने भारतीय सांसदों से बातचीत से इनकार कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. महेन्‍द्र
    Sep 22, 2016 at 8:33 am
    यह अच्‍छी बात नहीं है ऐसा दखिावा नही करना चाहिए धन्‍यवाद
    (0)(0)
    Reply
    1. अनिल संत
      Sep 21, 2016 at 5:21 pm
      इनको नही लेकिन इन्हें देखकर हमें शर्म आ रही है अपवाद कही के , इंसान तौ नही ,पर कुछ कहो या ना कहो क्या फर्क पड़ता है इनको .......पिकनिक मनाने आये हो क्या यहाँ पर...
      (2)(0)
      Reply
      1. S
        sanjeev sinha
        Sep 21, 2016 at 5:48 pm
        बहुत गहरा सम्बन्ध लगता है मेयर और दीप्ती मेयर में , तो फिर ये लोग सड़क पर टाइम क्यूँ बर्बाद कर रहे है, बैडरूम में जाये, और खुल के शहीदों का मातम मनाये.अब देखना ये है की जब इसका खुद का बेटा मरेगा तो ऐसे ही हँस पाती है या नहीं.
        (2)(0)
        Reply
        1. B
          bitterhoney
          Sep 22, 2016 at 1:58 am
          यह हमारे आज के नेता हैं जो मौज मस्ती ही में हर समय मस्त रहते हैं
          (1)(0)
          Reply
        2. D
          Dev Verma
          Sep 22, 2016 at 3:30 pm
          अभी नितीश,लालू एंड उसकी २ उल्लू बेटे आयगे और कहेंगे की इन की तो शक्ल हे ऐसे है.
          (0)(0)
          Reply
          1. D
            Dev Verma
            Sep 22, 2016 at 3:28 pm
            जय लोग इतने बेशरम हो गए हैं की इनको देख कर हमे खुद को शर्म आने लगी है. एक जवान की मौत पर भी जय लोग मुस्कराकर जाते हैं. शेम न थीम
            (0)(0)
            Reply
            1. D
              Dev Verma
              Sep 22, 2016 at 3:33 pm
              माफ़ करना जेय सेक्युलर लोग हैं और इनको सुब कुश allowed !
              (0)(0)
              Reply
              1. G.S. Mishra
                Sep 23, 2016 at 10:46 am
                ये साले हर जगह अपनी ी दिखाते है फिर विहार की जनता को समझ नहीं है यह साले कैंडिल मार्च नहीं बल्कि वोट बैंक के चक्कर में एक साथ आये है
                (0)(0)
                Reply
                1. i
                  indian(ncr)
                  Sep 22, 2016 at 5:54 am
                  It is not their fault but the foolish people voted them to slap on our faces. See how the people of Bihar voted to criminals, goon and anti nationals to loot the state,kidnap,murders etc. so enjoy bihari people let Nitish and Lalu abuse Modi and center.
                  (0)(0)
                  Reply
                  1. S
                    Saurav
                    Sep 22, 2016 at 5:28 am
                    भगवान् इनकी हंसती मुस्कराती आत्मा को शांत करे
                    (0)(0)
                    Reply
                    1. A
                      aasdf
                      Sep 22, 2016 at 4:01 pm
                      इन ो को बॉर्डर पर भेजो सालो ko
                      (0)(0)
                      Reply
                      1. R
                        raj
                        Sep 22, 2016 at 8:13 am
                        लाल सलाम की पार्टी के होंगे .
                        (0)(0)
                        Reply
                        1. Rkd Goel
                          Sep 22, 2016 at 11:44 am
                          Your Memories on FacebookDrrkd, we care about you and the memories you share here. We thought you'd like to look back on this post from 1 year ago.Drrkd GoelSeptember 21, 2015 �=======================================FORUM OF WHISTLE BLOWERS OF INDIAPresident.Dr.R.K.D.GoelPh: 2647677 Ph: 2357273 Ph: 2654710 Ph: 2640547 Ph: 2656688 Ph: 2638797ADDRESS: 1414-A, Akashdeep soc. B/H Akashwani, Makarpura Road, VADODARA -390 009Phone: 2647677: E-mail: d
                          (0)(0)
                          Reply
                          1. संजय कुमार
                            Sep 22, 2016 at 6:57 am
                            इन लोगों के घर का कोई इस हे में नहीं शहीद हुआ है, यदि ऐसा होता तो इन लोगों को पता चलता कि किसी का घर कोई बेटा, भाई, पति या फिर पिता अपनों को छोडकर देश के लिए शहीद होता है तो कैसा लगता है। उस परिवार, उस मांं-बाप से, उस बहन, उस पत्‍नी से या फिर उन बेरा बच्‍चों से पूछो कि अपनो को खोने का गम क्‍या होता है।
                            (0)(0)
                            Reply
                            1. Sidheswar Misra
                              Sep 22, 2016 at 5:04 am
                              मेयर कभी शहर का जन प्रिय नेता होता था. अब ग्राम प्रधान हो जिला परिषद् अध्यच्छ हो मेयर हो ये सभी धन प्रिय बनते है पार्टिया उन्ही को लड़ाती है .इनसे आप क्या अपेछा कर सकते है .दोष इनका भी इतना नहीं है .जनता को भी जागरूक होना होगा . नहीं तो अच्छे दिन के लालच में धोखा खा जाये गे .
                              (1)(0)
                              Reply
                              1. Load More Comments