ताज़ा खबर
 

बरखा दत्‍त के हमले के बाद अरनब के समर्थन में आए अनुपम खेर, कहा-छद्म बुद्धिजीवियों को बेपर्दा करने के लिए शुक्रिया

एनडीटीवी की कंसल्‍ट‍िंंग एडिटर बरखा दत्‍त ने एक फेसबुक पोस्‍ट के जरिए टाइम्‍स नाऊ के एडिटर इन चीफ अरनब गोस्‍वामी पर तीखा हमला बोला था।
Author नई दिल्‍ली | July 28, 2016 14:13 pm
अनुपम खेर ने अपने वीडियो मैसेज में कहा, ‘यह अरनब गोस्‍वामी के लिए ओपन मैसेज है। मैंने यहां एडिलेड ऑस्‍ट्रेलिया में आपके शो के कुछ हिस्‍से देखे और इसके लिए मैं आपको धन्‍यवाद देना चाहता हूं।’

टाइम्‍स नाऊ के एडिटर इन चीफ अरनब गोस्‍वामी पर एनडीटीवी की कंसल्‍ट‍िंग एडिटर बरखा दत्‍त ने तीखा हमला बोला था। हालांकि, एक्‍टर अनुपम खेर अरनब के समर्थन में खड़े हुए हैं। खेर ने ऑस्‍ट्रेलिया के एडिलेड शहर से टि्वटर पर एक वीडियो मैसेज पोस्‍ट करके गोस्‍वामी की तारीफ की है। वीडियो में अनुपम खेर कहते हैं, ‘छद्म बुद्धिजीवियों और छद्म उदारवादियों को एक्‍सपोज करने के लिए मैं आपको धन्‍यवाद देता हूं। ये ऐसे लोग हैं, जिनके लिए भारतीय सेना के शहीद जवान के बजाए मारे गए आतंकी के लिए आंसू बहाना ज्‍यादा अहम है। मैं आपको यह मुद्दा उठाने के लिए धन्‍यवाद देता हूं।’

क्‍या कहा अनुपम खेर ने
अनुपम खेर ने अपने वीडियो मैसेज में कहा, ‘यह अरनब गोस्‍वामी के लिए ओपन मैसेज है। मैंने यहां एडिलेड ऑस्‍ट्रेलिया में आपके शो के कुछ हिस्‍से देखे और इसके लिए मैं आपको धन्‍यवाद देना चाहता हूं। मैं आपको उन लाखों भारतीयों की ओर से धन्‍यवाद देना चाहता हूं जिनके लिए भारत पहले है। मैं आपको छ्दम बुद्धिजीवियों और छद्म उदारवादियों को बेनकाब करने के लिए धन्‍यवाद देता हूं। ये ऐसे लोग हैं, जिनके लिए शहीद सेना के जवान के बजाए मारे गए आतंकियों के लिए आंसू बहाना ज्‍यादा जरूरी है। यह मुद्दा उठाने के लिए मैं आपको धन्‍यवाद देता हूं। नेशनल प्‍लेटफॉर्म पर यह मामला लाने के लिए मैं आपको धन्‍यवाद देता हूं। इन लोगों के सामने हार मत मानिएगा। मुझे पूरा भरोसा है कि आप एक मजबूत शख्‍स हैं। आप इन लोगों से हार नहीं मानेंगे। हालांकि, इनकी नीयत तुरंत हमला करने की होती है, अगर आप देश की बात करते हैं। देशभक्‍त‍ि, तिरंगे, जन-गण-मन के लिए बात करने वाले व्‍यक्‍त‍ि पर हमला करना आजकल फैशनेबल बन गया है। एक चीज याद रखिएगा, आपके साथ लाखों भारतीय हैं। उन्‍हें आपके साथ रहना होगा क्‍योंकि हमारे लिए इंडिया नंबर वन है और उसके बाद पूरी दुनिया है। एक बार फिर से धन्‍यवाद। जय जो, जय हिंद, भारत माता की जय।’

सोशल मीडिया पर भड़ास निकाली बरखा ने, लेकिन ट्रेंड करने लगे अरनब गोस्‍वामी

क्‍या है पूरा मामला
अरनब ने अपने शो न्‍यूजआवर में डिबेट के दौरान आरोप लगाया था कि मीडिया का एक धड़ा कश्‍मीरी अलगाववादियों और आतंकियों का साथ दे रहा है। शो में आए एक एक्‍सपर्ट ने जब कहा कि इन्‍फॉर्मेशन वॉरफेयर के जरिए घाटी में अलगाववाद को सुलगाया जा रहा है तो अरनब ने सहमति जताई। शो के दौरान ही बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने बरखा दत्‍त और कांग्रेस पर अप्रत्‍यक्ष तौर पर निशाना साधा था। इसके एक दिन बाद बुधवार को बरखा ने एक फेसबुक पोस्‍ट में अरनब पर तीखा हमला बोला। बरखा ने कहा कि उन्‍हें शर्म आती है कि वे उसी इंडस्‍ट्री का हिस्‍सा हैं, जिसमें अरनब भी काम करते हैं।

बरखा दत्‍त ने टाइम्‍स नाऊ और अरनब गोस्‍वामी पर साधा निशाना, कहा- क्‍या यह शख्‍स जर्नलिस्‍ट है? शर्मिंदा हूं

अनुपम खेर का वीडियो देखने के लिए नीचे क्‍ल‍िक करें

अरनब गोस्‍वामी और बरखा दत्‍त की ‘जंग’ में कूदे क्रिकेट एक्‍सपर्ट हर्षा भोगले, समझाया पत्रकारिता का मतलब

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    Ashish
    Jul 28, 2016 at 12:04 pm
    क्या यह बात मीडिया बालो को बतानी पड़ेगी की बरखा जैसी लोग अलगाववादियों का खुलेआम समर्थन करता है आतंकवादियो से सेना निपट लेगी लेकिन अंदर छीपे विद्रोहियों से सरकार कैसे निपटेगी
    (1)(0)
    Reply
    1. J
      Jay
      Aug 1, 2016 at 3:20 pm
      अनुपम खेर इस परफेक्ट Modi का Dalla है... कब तक दलाली करेगा टकले?? इफ यू are सो कंसर्न अबाउट कश्मीर, तो कश्मीर जा कर कश्मीरियो के लिए लड़ता क्यों नहीं है दोगले????
      (0)(0)
      Reply
      1. K
        krishna kumar
        Jul 28, 2016 at 1:16 pm
        इन मैडम को शर्म आती है देश के गद्दारो को भी शर्म आती है देशद्रोहियो का समर्थन करने वाले आस्तीन के साँप पैसे के लिए अपने आप को बेच देने वाले सुर्खियों में रहने के लिए देश का सौदा करने वालो को इस देश में रहने नहीं देना हैसड़े हुए अंडे की गंध आती है इनको फोटो में भी देखकर.r
        (2)(0)
        Reply
        1. K
          kk
          Jul 28, 2016 at 1:03 pm
          इसे शर्म आती है, मतलब इसे भी शर्म आती है.
          (2)(0)
          Reply
          1. K
            kk
            Jul 28, 2016 at 1:03 pm
            जिस चैनल में ये काम करती है वो मुल्क विरोधी चैनल है, गद्दारों का झुण्ड है. उसे बन कर देना चाहिए.
            (2)(0)
            Reply
            1. K
              kk
              Jul 28, 2016 at 1:01 pm
              तो किसने कहा है की यहाँ रहो, जरूर हाफिज साइड नेह कहा होगा. इसके और रविश के प्रोग्राम में साफ़ दीखता है , कैसे ये आतंकवादियो का तरफदारी करते है.
              (1)(0)
              Reply
              1. M
                Manoj
                Jul 28, 2016 at 8:47 pm
                जनसत्ता के समाचारों के टाइटल कुछ ज्यादा ही नमक-मिर्च लगाकर परोसे जा रहे हैं . मुझे इंडियन एक्सप्रेस की ख़बरें ठीक लगती हैं पर जनसत्ता नहीं . ये ट्रेंड बेहद है इसे कृपया सुधारें .
                (0)(0)
                Reply
                1. M
                  manoj rattan
                  Jul 28, 2016 at 2:28 pm
                  जब हफ़ीज़ सईद जैसा आतंकवादी इसकी तारीफ कर रहा हो तो यह औरत किसलेवेल की पत्तरकार हैजो इसे शर्म आरही है अर्नब जैसे पत्तरकारपर लांछन लगाने का क्या तुक hai
                  (2)(0)
                  Reply
                  1. Samresh Bhardwaj
                    Jul 29, 2016 at 4:50 am
                    ी कहा अर्नब ने. जो कुछ कहा बहुत खूब कहा
                    (1)(0)
                    Reply
                    1. A
                      a
                      Jul 30, 2016 at 12:41 pm
                      अब खा दत्त कहेगी मई औरत हु इसलिए मुझ पे टारगेट किया जा रहा है और बकलोल काविश कहेगा बल बल लाल
                      (0)(0)
                      Reply
                    2. V
                      Vijay S
                      Jul 28, 2016 at 1:43 pm
                      देश मैं जयचंदो की कमी नहीं है. और ये मैडम जो अपने आप को पत्तरकार कहती हैइन के लिए तो जो कहा जाये काम है
                      (2)(0)
                      Reply
                      1. Load More Comments