May 28, 2017

ताज़ा खबर

 

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा आर्मी ऑफिसर की पत्नी लेटर, पढ़िए क्या है कारण

फेसबुक पेज हूयमन्स ऑफ बॉम्बे पर डाली गई स्टोरी में उन्होंने एक आर्मी अफसर की पत्नी होने का अनुभव बताया है।

नेहा कश्यप की फेसबुक पर शेयर की गई स्टोरी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। (Photo: Humans of Bombay)

अपनी जान पर खेलकर देश की रक्षा करने वाले सेना के जवानों की बहादुरी और उनके परिश्रम से तो हम सभी अवगत हैं। सीमा पर लगातार पैनी नजर रखने वाले यह जवान महीनों अपने घर नहीं जा पाते, परिवार से नहीं मिल पाते। ऐसे में एक आर्मी ऑफिसर की पत्नी ने सोशल मीडिया पर अपनी कहानी साझा की है। फेसबुक पेज हूयमन्स ऑफ बॉम्बे पर डाली गई स्टोरी में उन्होंने एक आर्मी अफसर की पत्नी होने का अनुभव बताया है। यह कहानी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। कहानी पढ़कर पता लगता है कि कैसे सैनिक की पत्नी को हर पल डर सताता है, कई दिन हो जाते हैं फोन पर बात तक किए।

नेहा कश्यप पेशे से एक वकील है। वह अपने पति के साथ नहीं रह सकतीं इसलिए उन्होंने मुंबई में ही रहकर अपना कॅरियर बनाने का सोचा। उन्होंने बताया कि एक समय तो ऐसा था कि अपने पति से बात करने के लिए लेटर लिखना ही एकमात्र जरिया था। उन्होंने बताया, “हम लगभग 4 महीने के अंतराल पर एक दूसरे से मिल पाते हैं। लेकिन वह एक साथ गुजरने वाले 15 दिन मेरे लिए सबकुछ होते हैं।”

वीडियो: सर्जिकल स्ट्राइक के बाद, जम्मू-कश्मीर की सीमा के गांवों को खाली करवाया गया

उन्होंने कहा कि अब उनके लंबे लेटर व्हाट्सऐप चैट में बदल गए हैं। उन्होंने कहा,” एक आर्मी के जवान के लिए देश की सबसे बढ़कर होता है। अपनी-अपनी कंपनियों में हम छुट्टियों और बोनस को लेकर शिकायते करते हैं, लेकिन सेना में आप कई सालों तक एक ही रैंक और एक ही सैलरी पर रहते हैं। हमारी 3 साल की बेटी है। कई बार ऐसा समय आया जब मैने उन्हें बेहद मिस किया और मेरी बेटी ने मुझे सांत्वना दी। वह दूर होते हुए भी एक बेहतरीन पिता हैं। कई बार वह फोन पर ही उससे पढ़ाई की बातें करते हैं।” उन्होंने यह भी संदेश देने की कोशिश की कि हमें अपने जवानों का हर दिन शुक्रिया अदा करना चाहिए और उनके बलिदान को नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने कहा कि “हम सिर्फ शहीद होने पर ही जवानों को याद करते हैं, जोकि गलत है।” नीचे पढ़ें पूरी पोस्ट :

Read Also: पाकिस्तान में नहीं दिखेंगे भारतीय चैनल, PEMRA ने लगाया बैन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 1, 2016 3:25 pm

  1. No Comments.

सबरंग