December 11, 2016

ताज़ा खबर

 

अखिलेश यादव की विकास रथ यात्रा से पहले भिड़े सपाई, ट्विटर यूजर्स ने ऐसे ली चुटकी

अखिलेश की 'विकास रथ यात्रा' से पहले समर्थकों की भिड़ंत पर सोशल मीडिया में चुहलबाजी हो रही है।

रथ यात्रा शुरू होने से पहले कार्यकर्ताओं का अभिवादन करते सीएम अखिलेश यादव। (Source: Twitter)

उत्‍तर प्रदेश चुनावों के मद्देनजर मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव राज्‍य में ‘विकास रथ यात्रा’ लेकर निकले हैं। 3 नवंबर में शुरू हुई यात्रा के ठीक पहले ही लखनऊ में समाजवादी कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। यह सब तब हुआ, जब अखिलेश को शुभकामनाएं देने पिता व सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और चाचा शिवपाल यादव मौजूद थे। एक तरफ तीनों नेता भाषण देते रहे, दूसरी तरफ उनके समर्थकों के बीच धक्‍कामुक्‍की और गाली-गलौज चलती रही। अखिलेश और शिवपाल के बीच सपा में कौमी एकता दल के विलय को देकर तल्‍खी खुलकर सामने आई थी। विलय हुआ तो नाराज अखिलेश ने चाचा के सारे मंत्रालय छीन लिए। जवाब में मुलायम ने अखिलेश को पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष पद से हटाकर शिवपाल को कमान सौंप दी। इसके बाद रिश्‍तों में दूरियां और बढ़ गईं। शिवपाल की वापसी तो हुई मगर एक बार फिर अखिलेश ने शिवपाल समेत कई मंत्रियों को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया, तो मामला गंभीर हो गया।

वीडियो: समाजवादी पार्टी की ‘विकास रथ यात्रा’ में एक साथ दिखे अखिलेश, शिवपाल और मुलायम; चुनाव प्रचार अभियान की हुई शुरुआत

समाजवादी सरकार के इस विकास रथ पर सीएम अखिलेश यादव का साइकिल चलाते हुए एक बड़ा फोटोग्राफ लगा हुआ है। बस के सामने की ओर साइकिल का फोटो है, जो कि समाजवादी पार्टी का चुनाव चिन्ह है। समाजवादी रथ के पीछे पार्टी सुप्रीमो और पिता मुलायम सिंह यादव की दो फोटो लगी हुई है। जिन तीन और लोगों की ब्लैक एंड वाइट तस्वीर रथ पर दिखाई देती है वह हैं राम मनोहर लोहिया जनेश्वर मिश्र और जयप्रकाश नारायण। इस रथ पर शिवपाल की तस्वीर न होने से अंदाजा लगाया जा रहा है कि चाचा और भतीजे के रिश्तों में आईं तल्खियां अभी दूर नहीं हुई हैं।

अखिलेश की ‘विकास रथ यात्रा’ से पहले समर्थकों की भिड़ंत पर सोशल मीडिया में चुहलबाजी हो रही है। कई यूजर्स ने अखिलेश की रथ यात्रा को ‘गैर-जरूरी’ बताया है। कुछ यूजर्स ने ‘रथ’ के खराब होने पर भी चुटकी ली। एक नजर डालिए विकास रथ यात्रा को लेकर ट्विटर पर हो रही हलचल पर:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 3, 2016 12:50 pm

सबरंग