December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

तनमय भट ने पूछा- हिरासत में क्‍यों लिए गए केजरीवाल? ट्विटर यूजर्स ने दिए मजेदार जवाब

तनमय ने ट्वीट किया, ''सवाल: केजरीवाल को हिरासत में लेने के पीछे असल वजह क्‍या है?''

यूजर्स ने तनमय के सवाल पर कई मजेदार जवाब दिए। (Source: Twitter)

दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल 2 नवंबर को पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाजल के परिवार से मिलने गए थे। ग्रेवाल ने वन रैंक वन पेंशन के मुद्दे पर 1 नवंबर को जनपथ पर जहर खाकर आत्‍महत्‍या कर ली थी। हालांकि केजरीवाल को लेडी होर्डिंग अस्‍पताल के बाहर दिल्‍ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया, जहां ग्रेवाल का शव पोस्‍टमॉर्टम के लिए लाया गया था। उसके बाद उन्‍हें आरके पुरम पुलिस थाने ले जाया गया और देर रात छोड़ा गया। पुलिस ने उन्‍हें हिरासत में लेने के पीछे ‘स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं में बाधा’ आने की स्थिति से बचने को वजह बताया। उन्‍होंने यह भी कहा कि पूरी कार्रवाई कानून के मुताबिक की गई है और नेताओं को दिल्‍ली पुलिस एक्‍ट की धारा 65 के तहत हिरासत में लिया गया है। लेकिन इन सबके बीच केजरीवाल ने, AIB (कॉमेडियंस ग्रुप) के सह-संस्‍थापक तनमय भट के ट्वीट को रिट्वीट किया, जिसमें भट ने केजरीवाल के हिरासत में लिए जाने की वजह पूछी थी। तनमय ने ट्वीट किया, ”सवाल: केजरीवाल को हिरासत में लेने के पीछे असल वजह क्‍या है?”

वीडियो: पूर्व सैनिक के अंतिम संस्‍कार में शामिल हुए राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल 

एक यूजर ने लिखा, ”खराब मूवी रिव्‍यू देने के लिए।” वहीं एक दूसरे यूजर ने लिखा, ”वह (केजरीवाल) लोगों को बताते थे कि उन्‍होंने बैंग बैंग देखी और बच्‍चों ने उसे एंज्‍वॉय किया। मुझे बताओ कि यही वजह काफी नहीं है। सबकुछ डडलानी के लिए।” भट को ऐसे ही जवाबों की उम्‍मीद थी और यूजर्स ने वही किया। हालांकि कुछ को लगा कि तनमय सच में जानना चाहते हैं, मगर ज्‍यादातर यूजर्स मजेदार जवाब देने से बाज नहीं आए।

अरविंद केजरीवाल ट्विटर पर लगातार हमलावर हैं। बुधवार रात हिरासत में लिए जाने के बाद भी वह लगातार ट्वीट करते रहे। गुरुवार सुबह उन्‍होंने भाजपा पर ‘सैनिकों का हक छीनने’ की राजनीति करने का आरोप लगाया। केजरीवाल ने लिखा, ”भाजपा- ये (आप) लोग राजनीति कर रहे, हाँ हम राजनीति कर रहे। हम सैनिकों को हक़ दिलाने की राजनीति कर रहे। भाजपा सैनिकों के हक़ छीनने की राजनीति कर रही।”

देखें, तनमय के सवाल पर मिले मजेदार जवाब: 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 3, 2016 6:10 pm

सबरंग