December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

बैंकों में भीड़ के लिए हुई मोदी सरकार को निशाने पर लेने की कोशिश, लेकिन ऐसे उल्टा पड़ा दांव

8 नवंबर को पीएम मोदी द्वारा संदेश देने के बाद से अबतक बैंकों और एटीएम में लाइन कम नहीं हुई है।

मोदी सरकार ने 500-1000 रुपए के नोटों को बैन करने का फैसला किया। सरकार ने पुराने नोटों को बदलने का कुछ वक्त भी लोगों को दिया। लेकिन सरकार के फैसले के बाद से लोगों में अफरातफरी मच गई। इस वजह से बैंकों में भीड़ लग गई। 8 नवंबर को पीएम मोदी द्वारा संदेश देने के बाद से अबतक बैंकों और एटीएम में लाइन कम नहीं हुई है। मोदी सरकार को निशाना बनाने के लिए इसको लेकर ट्विटर पर #अबकी_बार_लंबी_कतार ट्रेंड करवाया जा रहा था। लेकिन उसका उल्टा हो गया। इसपर लोग सरकार के समर्थन में ट्वीट करने लगे। एक ने लिखा, ‘उठाईये 2 दिन परेशानी देशहित में, क्योंकि आप सीमा पर बंदूक उठाकर नहीं खड़े हैं, केवल लाईन में ही खड़े’ दूसरे ने लिखा कि लोग आईफोन लेने के लिए लाइन में खड़े हो जाते हैं लेकिन पैसों के लिए खड़े होने पर उन्हें परेशानी है। वहीं तीसरे ने लिखा, ‘बैंक के बार भीड़ तो है लेकिन कोई शिकायत नहीं कर रहा।’

वीडियो: 500, 1000 के नोट बदलवाने हैं? लोगों के पास आ रहीं ऐसी फ्रॉड काल्‍स

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने देश के सभी अस्पतालों, पेट्रोल पंपों, रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों पर 500 और 1000 के पुराने नोट चलने की समय सीमा बढ़ाकर 14 नवंबर कर दी है। इसके अलावा देश के सभी टोल पर 14 नवंबर तक कोई टैक्स भी नहीं लिया जाएगा। बिजली और पानी के बिल जैसे केंद्र सरकार, राज्य सरकार द्वारा लिए जाने वाले सभी बिलों का भुगतान 14 नवंबर तक 500 और 1000 के पुराने नोटों से किया जा सकता है। गौतलब है कि इससे पहले आठ नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के पुराने नोट बंद किए जाने की घोषणा की थी। हालांकि बैंकों और एटीएम के सामने पिछले दो दिन से लंबी कतारें हैं। बैंकों और एटीएम में नगद की कमी की शिकायतें लगातार आ रही हैं।

देखिए कैसे-कैसे ट्वीट आए

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 12, 2016 3:47 pm

सबरंग