December 08, 2016

ताज़ा खबर

 

जब बाल झड़ने से परेशान जवाहर लाल नेहरू ने पिता से की थी शिकायत, वायरल हुई ‘चिट्ठी’

पत्र की यह तस्‍वीर जैसे ही ऑनलाइन हुई, रेडिट पर लोगों ने इसे हाथोंहाथ लिया।

इंटरनेट पर नेहरू का यह पत्र वायरल हो रहा है।

देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को अच्‍छा दिखने का शौक था। नेहरू स्‍टाइल कोट आज भी राजनेताओं के पसंदीदा परिधानों में शुमार होता है। उनके इस शौक की एक झलक इन दिनों इंटरनेट पर खूब शेयर की जा रही है। एक पत्र जो जवाहर ने अपने पिता मोतीलाल नेहरू को सितंबर, 1911 में लिखा था, वायरल हो गया है। एक रेडिट यूजर ने उस पत्र की तस्‍वीर साझा की है जिसमें नेहरू ने अपने पिता को बाल झड़ने की समस्‍या के बारे में लिखा है और बताया क‍ि उन्‍होंने बाल वापस पाने की उम्‍मीद छाेड़ दी है। उन्‍होंने अपने पिता को यह भी लिखा कि उन्‍हें कोई तेल न सुझाएं क्‍योंकि उन्‍होंने सबकुछ इस्‍तेमाल करके देख लिया पर कोई फायदा नहीं हुआ। अपने पत्र में वह लिखते हैं,

”मेरे प्‍यारे पिता,

मेरे सिर की हालत बेहतर नहीं हुई है। मुझे लगता है यह और खराब हो गई है। मैं बार स्‍पेशलिस्‍ट के पास जा चुका हूं और एक बार फिर जाने वाला हूं। मुझे नहीं लगता कि मैं अपने खोए हुए बाल वापस पा सकूंगा। मैं शायद वही थोड़े-बहुत बाल बरकरार रख सकूं जो अभी हैं। आप मुझे कोई और तेल भेजकर परेशान न करें। मुझे ज्‍यादा तेल लगाना पसंद नहीं और इससे कुछ अच्‍छा भी नहीं होता। दुनिया की कोई चीज बाल नहीं उगा सकती अगर वहां कोई जड़ ही न बची हो। लोशंस के जरिए बालों को सिर्फ साफ रखा जा सकता है ताकि भविष्‍य में होने वाले वृद्धि का रास्‍ता बने। किशन भाई ने करीब 15 दिन पहले अपना इलाज मुझपर आजमाया था, मगर उससे भी कुछ नहीं हुआ। मैं अपने बालों से खीजता जा रहा हूं। जितना समय और पैसा मैंने इसपर खर्च किया है, उसका इस्‍तेमाल और बेहतर तरीके से किया जा सकता था।

सप्रेम
आपका प्‍यारा बेटा
जवाहर”

11 yo Nehru freaking out about going bald

पत्र की यह तस्‍वीर जैसे ही ऑनलाइन हुई, रेडिट पर लोगों ने इसे हाथोंहाथ लिया। कई यूजर्स ने नेहरू के लिखे कई अजीबोगरीब पत्रों का जिक्र किया। एक यूजर ने लिखा, ”मुझे सेलेक्‍टेड वर्क्‍स ऑफ जवाहरलाल नेहरू का वॉल्‍यूम 1 मिला। जरूर पढ़ें, उसमें ऐसे कई नगीने हैं- नेहरू अपनी मां को समझा रहे हैं कि उन्‍हें ड्रिंक करना और डांस करना पसंद नहीं, किसी शर्माजी के बेटे से तुलना किए जाने की शिकायत कर रहे हैं, पिता ने बिल्‍स के बारे में पूछा तो अपमानित महसूस करना।” जनसत्‍ता डॉट कॉम ने खबर लिखने तक इस पत्र की सत्‍यता की पुष्टि नहीं की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 30, 2016 7:30 pm

सबरंग