ताज़ा खबर
 

फिल्‍म निर्माता ने दिल्‍ली सीएम पर कसा तंज- ‘कोठे बंद कराने आए थे केजरी, सिक्कों की खनक पर खुद नाचने लगे’

मामला टैंकर घोटाले से जुड़ा है. घूस लेने का आरोप झेल रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का सोशल मीडिया पर इस समय हाल अच्छा नहीं है।
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

ईमानदारी की नींव पर बनी आम आदमी पार्टी (AAP) एक बार फिर सवालों के घेरे में है। मामला टैंकर घोटाले से जुड़ा है. घूस लेने का आरोप झेल रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का सोशल मीडिया पर इस समय हाल अच्छा नहीं है। पार्टी और उसके नेताओं की कथनी और करनी में फर्क नजर आने पर सोशल मीडिया पर तल्ख टिप्पणियां आ रही हैं। पेशे से फिल्मकार और सामाजिक कार्यकर्ता अशोक पंडित ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर हमला बोलते हुए लिखा, ‘केजरीवाल के बारे में दो शब्द- ये तवायफों के कोठे बंद कराने आए थे। सिक्कों की खनक सुनकर खुद ही नाचने लगे।

फिर कुनाल कपूर ने ट्वीट किया कि संजय सिंह ने पंजाब में टिकट बेचकर 20 करोड़ रुपए कमाए हैं। अब वह दो करोड़ घूस लेने के मामले में केजरीवाल को बचा रहे हैं। ये कुछ आम आदमी पार्टी के मानक हैं, जिनका वह पालन कर रही है। टैंकर घोटाले में अपने ही मंत्री के आरोप पर केजरीवाल के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया था। उसमें लिखा था, ‘देश से भ्रष्टाचार मिटाने के लिए 100 बार सीएम की कुर्सी कुर्बान।’ जवाब में पंडित बोले, सीएम की कुर्सी कुर्बान कर दें। देश से भ्रष्टाचार अपने आप खत्म हो जाएगा। दिल्ली के सीएम पर उन्हीं के कबीना मंत्री कपिल मिश्र ने उन्हें 2 करोड़ रुपए स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन से घूस लेने का आरोप लगाया था। कांग्रेस के समय से लेकर उनके कार्यकाल तक जलापूर्ति व्यवस्था में गड़बड़ियां थीं। यह कहकर शनिवार रात इसी कड़ी में पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखाया। हालांकि, बाद में पार्टी ने उन्हें भाजपा नेता जैसे बर्ताव करने वाला बताया है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. R
    ram
    May 9, 2017 at 12:12 am
    Kursi FEVICOL se chipki hai yeh jod bahut pakka hai
    (0)(0)
    Reply
    1. R
      Rahul
      May 8, 2017 at 5:04 pm
      केजरीवाल के बारे मे दो शब्द - ये तवायफों के कोठे बंद कराने आए थे , सिक्कों की खनक सुनकर खुद ही नाच बैठे।
      (0)(0)
      Reply