December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

कैसे होती है रिलायंस Jio सिम के लिए बारकोड की “चोरी”, यहां है पूरी डीटेल

रिलायंस जियो सिम खरीदने के लिए सबसे पहले बारकोड मांगा जाता है, लेकिन अगर आपका बारकोड पहले ही इस्तेमाल हो चुका है तो सिम नहीं मिल सकता।

हाल ही में बारकोड चोरी हो जाने के कई मामले सामने आए हैं। (Photo: Vishal Ahlawat/jansatta)

रिलायंस जियो सिम कार्ड खरीदने के लिए सबसे पहला दस्तावेज जो मांगा जाता है वह आपके 4जी सिमकार्ड का बारकोड है। लेकिन इन दिनों बारकोड चोरी हो जाने की घटनाओं में लगातार इजाफा हो रहा है। काफी लोगों ने 31 दिसंबर तक वेलकम ऑफर की सुविधा देने वाली रिलायंस जियो का सिम खरीद लिया है, लेकिन कई ऐसे भी हैं जो 4जी स्मार्टफोन होते हुए भी सिम इसलिए नहीं खरीद पाए क्योंकि किसी ने उनका बारकोड चोरी कर लिया।

क्या है बारकोड की चोरी:

दरअसल रिलायंस जियो सिम का इस्तेमाल सिर्फ 4जी स्मार्टफोन में ही हो सकता है। इसके अलावा एक फोन के लिए सिर्फ एक ही सिम प्रोवाइड कराया जाता है। कंपनी के नियम के मुताबिक ग्राहक को सिम खरीदने से पहले अपने फोन में MyJio ऐप डाउनलोड करनी होगी और एक बारकोड जेनरेट करना होगा। इस बारकोड को दिखाने के बाद ही जियो सिम खरीद सकते हैं। दरअसल यह बारकोड अापके फोन के IMEI नंबर से जेनरेट होता है, और एक IMEI नंबर पर एक ही बारकोड बन सकता है। ऐसे में अगर आपके IMEI नंबर पर आपसे पहले ही जियो सिम खरीदा जा चुका है तो यह बारकोड चोरी का मामला है।

सिम खरीदने से पहले अपने फोन में MyJio ऐप डाउनलोड करनी होगी और एक बारकोड जेनरेट करना होता है। (Photo: Jio) सिम खरीदने से पहले अपने फोन में MyJio ऐप डाउनलोड करनी होगी और एक बारकोड जेनरेट करना होता है। (Photo: Jio)

वीडियो मे देखिए, जियो सिम खरीदने का ये है तरीका

Read Also: एक आधार कार्ड पर आप खरीद सकते हैं 9 जियो सिम, जानिए क्या है तरीका

कैसे होता है बारकोड चोरी:

दरअसल बारकोड के नीचे बारकोड की डिजिट भी जेनरेट होती है। इस डिजिट को सिम खरीदते समय भरा जाता है। कई दुकानदार शुरुआत और बाद के नंबर बदलकर कोड को डाल देते हैं। असल में जियो बारकोड की आखिरी पांच डिजिट्स में ही अंतर होता है। जियो सिम बेच रहे कर्मचारियों को इतना अनुभव हो गया है कि किस सिरीज का बारकोड चल रहा है। ऐसे में कई बार अंदाजा सही लग जाता है और कोड काम कर जाता है। यह कोड किसी ऐसे फोन का होता है जिसने अभी तक सिम नहीं खरीदा है। इसके अलावा पैक्ड मोबाइल का बार कोड तक चोरी किया जा रहा है। फोन का बारकोड इस्तेमाल करके उसे बेच दिया जाता है। ऐसे में नया 4जी फोन खरीदने के बावजूद सिम नहीं मिल पाता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 27, 2016 5:15 pm

सबरंग