January 17, 2017

ताज़ा खबर

 

तो इस तरह कोई नहीं पढ़ पाएगा आपकी पर्सनल फेसबुक Messenger चैट

इस साल की शुरुआत से ही फेसुबक ने अपने सभी 90 करोड़ मैसेंजर यूजर्स की चैट को एंड-टू-एंड एन्क्रिपशन में बदलना शुरू कर दिया था।

यह फीचर सबसे पहले व्हाट्सऐप लाया था। इसके अलावा ये फीचर वाईबर भी लागू किया जा चुका है।

व्हाट्सऐप के बाद अब फेसबुक पर भी एंड-टू-एंड एन्क्रिपशन की फीचर आ गया है। इसके बाद व्हाट्सऐप चैट की तरह फेसबुक मैसेंजर की चैट भी गोपनीय रहेगी। इस साल की शुरुआत से ही फेसुबक ने अपने सभी 90 करोड़ मैसेंजर यूजर्स की चैट को एंड-टू-एंड एन्क्रिपशन में बदलना शुरू कर दिया था। कंपनी ने जानकारी दी कि अब यह काम पूरा हो चुका है।

क्या होता है एंड-टू-एंड एन्क्रिपशन :

एंड-टू-एंड एन्क्रिपशन फीचर का काम होता है कि आपके संदेशों को सेफ रखे। इसके जरिए आपके द्वारा भेजा गया संदेश सिर्फ आप या सिर्फ वो इंसान पढ़ पाएगा जिसे आपने भेजा है। यहां तक की सरकार भी आपके द्वारा भेजा गया मैसेज नहीं पढ़ पाएगी। यह फीचर सबसे पहले व्हाट्सऐप लाया था। इसके अलावा ये फीचर वाईबर भी लागू किया जा चुका है।

कैसे मिलेगा यह फीचर:

मैसेंजर में यह फीचर आपको secret conversations नाम से मिलेगा। इसके लिए सबसे पहले अपनी फेसबुक ऐप को अपडेट करलें और मैसेंजर ओपन करें। फिर टॉप राइट कोने में दिखने वाले प्रोफाइल ऑप्शन पर टैप करें। यहां आपको secret conversations ऑप्शन दिखेगा। इसमें जाकर आप सिक्रेट कनवर्सेशन को ऑन या ऑप कर सकते हैं। साथ ही सभी सिक्रेट चैट को एक बार में डिलीट भी कर सकते हैं। फेसबुक ने टैक्स्ट, फोटो के साथ स्टीकर को भी इसके दायरे में रखा है। हालांकि वीडियो और GIF इससे बाहर होंगे। इसके अलावा यह फीचर ग्रुप चैट के लिए भी काम नहीं करेगा।

इस तरह मिलेगा फीचर। इस तरह मिलेगा फीचर।

Read Also: Google Pixel में है DSLR जैसा कैमरा, जानिए iPhone 7 से किस तरह बेहतर है गूगल का नया स्मार्टफोन

व्हाट्सऐप का इस फीचर को लाने का उद्देश्य यूजर्स को एक ऐसा प्लेटफार्म देना है जहां वह बिना डर के अपने पर्सनल मैसेज अपने करीबी लोगों को भेज सके। बीते कुछ समय में व्हाट्सऐप हैक होने के कई मामले सामने आए हैं, जिनकी वजह से यूजर्स को बहुत परेशानी भी हुई है। लेकिन अब हैकर्स भी आपकी चैट नहीं पढ़ सकते। हालांकि सरकार ने इस फीचर को लेकर कुछ समस्याएं बताई थी। सरकार का कहना है कि इसकी वजह से आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 5, 2016 3:29 pm

सबरंग