ताज़ा खबर
 

भारत में पूरी तरह नहीं आया 4जी और चीन ने शुरू किया 5G का ट्रायल

चीन ग्राहकों की संख्या के लिहाज से दुनिया का सबसे बड़ा दूरसंचार बाजार है और वह सेल्यूलर फोन प्रणालियों में अगली पीढ़ी की दौड़ में आगे रहना चाहता है।
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

सब्सक्राइबर्स के मामले में दुनिया के सबसे बड़े टेलिकॉम मार्केट कहे जाने वाले चीन ने लगभग 100 शहरों में 5जी का ट्रायल शुरू कर दिया है। हांगकांग के अखबार साउथ चाइना मोर्निंग पोस्ट ने बर्नस्टेन रिसर्च की रिपोर्ट के आधार पर इस आशय की खबर प्रकाशित की है। चीन ग्राहकों की संख्या के लिहाज से दुनिया का सबसे बड़ा दूरसंचार बाजार है और वह सेल्यूलर फोन प्रणालियों में अगली पीढ़ी की दौड़ में आगे रहना चाहता है।

मिनिस्ट्री ऑफ इंडस्ट्री एंड इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी (MIIT) के मुताबिक, चीन में 1.3 अरब फोन उपभोक्ताओं में से 30 प्रतिशत 4जी प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल कर रहे हैं। दूरसंचार की 5जी प्रौद्योगिकी मौजूदा 4जी प्रौद्योगिकी की तुलना में 20 गुना तेज होगी और इसमें ‘डेटा लोस’ बहुत कम होगा। रिपोर्ट के मुताबिक चौथी पीढ़ी की तकनीक (4जी) से 1 जीबीपीएस की स्पीड मिलती है, वहीं 5जी से 20 जीबी तक की स्पीड मिलेगी।

वीडियो में देखिए, दादरी कांड के दोषी की जेल में हुई मौत

Read Also: फ्लाइट लैंड करते वक्त एयर इंडिया पायलट ने देखा गुब्बारा, एयर ट्रैफिक कंट्रोल को दी जानकारी

इसके अलावा, ऐप को क्लिक करने के बाद मिलने वाले रिस्पॉन्स टाइम में भी कमी आएगी। 5जी में यह टाइम 1 मिलीसेंकेड या उससे भी कम होगा, वहीं 4जी पर यह 10 मिलीसेकेंड है। रिपोर्ट में कहा गया है कि 5जी प्रौद्योगिकी के परीक्षण के साथ अधिक उपयोक्ता व हाइस्पीड डेटा में सक्षम एंटीना प्रणाली का भी परीक्षण किया जा रहा है। बता दें कि चीन की योजना 2020 तक देश में 5जी मोबाइल सर्विस लॉन्‍च कर देने की है। चीनी मीडिया की रिपोर्ट के मुताबिक मिनस्ट्रिी ऑफ इंडस्‍ट्री एंड इंफॉर्मेशन टेक्‍नोलॉजी (एमआईआईटी) 5जी से जुड़ा रिसर्च व जांच का काम 2018 तक पूरा कर लेगा। इसके दो साल बाद टेलीकॉम सर्विस प्रोवाइडर्स 5जी सेवा दे सकेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग