ताज़ा खबर
 

मोबाइल नंबर की तरह ड‍िश कनेक्‍शन में भी लागू होगी पोर्टेब‍िल‍िटी

फिलहाल सर्विस प्रोवाइडर एक सेट-टॉप बॉक्स के लिए 1700 से 2000 रुपए तक ग्राहक से लेते हैं।
Author नई दिल्ली | August 8, 2017 11:42 am
इस तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीक के तौर पर किया गया है। (File Photo)

अगले साल से लोग अपने डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर और केबल ऑपरेटर्स को आसानी से बदल सकेंगे और इसके लिए उन्हें अपना सेट-टॉप बॉक्स को बदलवाने की जरुरत भी नहीं पड़ेगी। यह बिलकुल मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की तरह ही होगा। जैसे लोग बिना अपना नंबर बदले अपने सर्विस प्रोवाइडर को बदल लेते हैं, ऐसे ही अब आसानी से डीटीएच के साथ भी किया सकेगा। डीएनए के अनुसार टेलीकॉम रेगुलेटरी ऑथोरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) के चैयरमेन आरएस शर्मा ने इसकी जानकारी देते हुए हा कि बेंगलुरु में पिछले महीने सेंटर फॉर डिवेलपमेंट द टेलिमेटिक्स (सीडीओटी) के साथ बैठक कर इस पर चर्चा की गई थी।

सीडीओटी वो एजेंसी है जिसे हमने सेट-टॉप बॉक्स की इंटरऑपरेबिलिटी के लिए एक प्रोटोटाइप और टेक्नोलॉजी आर्किटेक्चर विकसित करने के लिए लगाया था। उन्होंने हमारी उम्मीदों पर खरा उतरकर हमें संतुष्ट करने वाला काम किया है। ट्राई काफी समय से इस मुद्दे पर काम कर रहा था। प्रोटोटाइप के बनने के बाद अब हमें इसे दोहराने के तरीके के बारे में पता लगाना है और कैसे कमर्शियल इस्तेमाल के लिए टेक्नॉलोजी को ट्रांस्फर किया जा सकता है। इसे लेकर हमने सभी स्टैकहॉल्डर्स को अपने साथ लिया है। शर्मा ने कहा कि सबसे बड़ा मुद्दा हमारे लिए पायरेसी है, खासकर बॉडकास्टर्स को ध्यान में रखकर हमें काम करना होगा। हम इस मामले को लेकर उनसे बात करेंगे।

शर्मा ने कहा कि नई सुविधा के इस्तेमाल के लिए इसमें जुड़ने वाला पैसा भी विचार करने का विषय है। फिलहाल सर्विस प्रोवाइडर एक सेट-टॉप बॉक्स के लिए 1700 से 2000 रुपए तक ग्राहक से लेते हैं। यह पैसा नॉन रिफंडेबल होता है जिसके कारण ग्राहक अपने सर्विस प्रोवाइडर को बदलने के बारे में सोचते भी नहीं है लेकिन अब ग्राहकों को केवल एक कार्ड बदलने की जरुरत पड़ेगी और उनका वहीं सेट-टॉप बॉक्स रहेगा। इसके लिए उन्हें अतिरिक्त पैसा भी नहीं देना होगा। शर्मा ने कहा कि यह मेक इन इंडिया का पार्ट है। हम इस पर काम कर रहे हैं और आशा है कि अगले 5-6 महीनों में यह सुविधा ग्राहकों को उपलब्ध करा दी जाएगी।

देखिए वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग