December 10, 2016

ताज़ा खबर

 

जानिए, आखिर क्‍यों कभी पंक्‍चर नहीं होता यह टायर और क्‍या हैं इसकी खूबियां

कंपनी जनवरी से टायर की शिपिंग करना शुरू कर देगी। इसे सबसे पहले केवल अमेरिका के ग्राहकों को दिया जाएगा। पंक्चर ना होने वाले टायर का कॉन्सेप्ट नया नहीं है बल्कि अपनी कठोरता और शॉक अब्सॉर्पशन बर्दाश्त ना करने की वजह से यूज नहीं किए जाते हैं।

ये है पंक्चर प्रूफ टायर। Image Source: Nexo

साइकिल चलाने वाले लोगों के सामने सबसे ज्यादा जो दिक्कत आती है वो यह है कि कई मौकों पर उनका टायर पंक्चर हो जाता है। कई बार तो महत्वपूर्ण परिस्थितियों में यह साथ छोड़ देता है। लेकिन अब घबराइए मत आपकी यह परेशानी जल्द ही खत्म होने वाली है। अब आपको अपने साथ पंप मशीन या पंक्चर किट भी ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ऐसे दो तरह के टायर बनाने का दावा किया जा रहा है जो कभी पंक्चर नहीं होंगे। उटाह बेस्ड नेक्सों कंपनी ने इन दो तरह के टायर को बनाया है। जिनके नाम नेक्सों और एवर टायर रखे गए हैं। ऐसा दावा किया जा रहा है कि इनपर गड्ढों और पत्थर का कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा। किकसाटार्टर पर इनकी बिक्री शुरू हो चुकी है। दो टायर की कीमत 76 डॉलर रखी गई है। वहीं 20-24 इंच के चार एवर टायर के सेट की कीमत 360 डॉलर है। ये किसी भी साइज की साइकिल में फिट बैठ सकते हैं।

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

कंपनी जनवरी से टायर की शिपिंग करना शुरू कर देगी। इसे सबसे पहले केवल अमेरिका के ग्राहकों को दिया जाएगा। पंक्चर ना होने वाले टायर का कॉन्सेप्ट नया नहीं है बल्कि अपनी कठोरता और शॉक अब्सॉर्पशन बर्दाश्त ना करने की वजह से यूज नहीं किए जाते हैं। पर उम्मीद है कि नेक्सो के साथ इस तरह की परेशानी नहीं आएगी। इससे हर साल फेंके जाने वाले टायरों की संख्या में कमी आएगी। इन टायरों को इस तरह से डिजायन किया गया है कि ये पथरीली रोड पर भी आसानी से चल सकते हैं। हालांकि कंपनी का कहना है कि ये टायर पर्वतों की पगडंडियों पर चलने के योग्य नहीं हैं।

एवर टायर को इस तरह से डिजायन किया गया है कि इसके साइड में कई होल्स बने हुए हैं और इसे नेक्सेल की पोलिमर ब्लेंड से बनाया गया है। इस ब्लेंड को तीन मैक्रोमॉल्यूकल मैटेरियल से बनाया जाता है। जिसकी वजह से यह काफी हल्के, लचीले और टिकाऊ बनते हैं। ये टायर 5,000 मील की यात्रा आसानी से तय कर सकते हैं। वहीं नेक्सो टायर में ज्यादा होल्स नहीं बनाए गए हैं। इसकी वजह से यह केवल 3100 मील आसानी से तय कर सकता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on November 11, 2016 11:11 am

सबरंग