ताज़ा खबर
 

फेसबुक पर आपकी फ्रेंड लिस्ट है लंबी, तो जिएंगे ज्यादा जिंदगी

फेसबुक के इस्तेमाल से जिंदगी बढ़ सकती है। एक शोध में कहा गया है कि अगर आप ज्यादा फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार करते हैं तो आपके लंबे जीने की संभावना बढ़ जाती है।
Author नई दिल्ली | November 7, 2016 17:42 pm
फेसबुक के इस्तेमाल से बढ़ सकती है आपकी उम्र। (Photo: Reuters)

फेसबुक के इस्तेमाल से जिंदगी बढ़ सकती है। यह बात एक शोध में सामने आई है। न्यूयॉर्क डेली के मुताबिक एक शोध में कहा गया है कि अगर आप ज्यादा फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार करते हैं तो आपके लंबे जीने की संभावना बढ़ जाती है। फेसबुक गतिविधियों पर एक दशक से ज्यादा समय तक स्टडी करने वाले साइंटिस्टों का सुझाव है कि जिनका मजबूत सोशल मीडिया नेटवर्क होता है और मल्टीपल फ्रेंड रिक्वेस्ट को अक्सेप्ट करते हैं उनके मरने की संभावना कम होती है। नार्थ इस्टर्न यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर विलियम्स हॉब और यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया के प्रोफेसर जेम्स फोलर के नेतृत्व वाले शोध में कहा गया है कि लोगों की हेल्थ और सोशल मीडिया अकाउंट्स के बीच संबंध है।

शोधकर्ताओं ने लिखा कि हमने पाया कि जो फेसबुक यूजर्स ज्यादा फ्रेंडशिप स्वीकार करते हैं उनकी मृत्यु का खतरा कम होता है। होब्स का मानना है कि हाई लेवल ऑफलाइन सोशल इंटरेक्शन और मध्यम स्तर ऑनलाइन सोशल इंटरेक्शन करने वालों की मृत्युदर कम होती है। यह शोध सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाले 1.2 करोड़ उपभोक्ताओं पर किया गया। जिन लोगों पर यह अध्ययन किया गया उनका जन्म 1945 से 1989 के बीच हुआ था। शोध में पाया गया कि जो लोग नियमित रूप से सोशल मीडिया का इस्तेमाल करते हैं, वे इसका इस्तेमाल नहीं करने वालों से अधिक जीते हैं। इस शोध में इस बात की पुष्टि की गई है कि जिन लोगों का मजबूत सामाजिक दायरा होता है यानी जिनके अधिक दोस्त होते हैं, वे लंबी उम्र तक जीते हैं। यही बात ऑनलाइन सामाजिक दायरा रखने वाले लोगों पर भी लागू होती है।

बहन के ब्वॉयफ्रेंड को बेरहमी से पीटा; सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो

वैज्ञानिक इस नतीजे पर निकले मनुष्य के स्वास्थ्य और फेसबुक रिक्वेस्ट (जो कि उसके द्वारा भेजे और स्वीकार किए गए) के बीच कोई संबंध नहीं है। शोध पत्र में माना गया है कि शोध की कई सीमाएं हैं, क्योंकि फेसबुक बाकी सोशल मीडिया वेबसाइट्स से अलग है और यही कारण है कि यह शोध डेटा को मौटे तौर पर लागू नहीं होता है। पेपर में इस बात के कोई सबूत नहीं है कि फेसबुक सीधे मनुष्य की हेल्थ पर प्रभाव डालता है।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग