ताज़ा खबर
 

शैलेंद्र शांत की कविताएं : सुना था

किसी को किसी पर, यकीन ही नहीं, अजीब सी हो, चली है यह दुनिया, शब्दों की दुनिया, संवेदनाओं की दुनिया
Author नई दिल्ली | August 20, 2016 23:22 pm
representative image

सुना था

किसी को किसी पर
यकीन ही नहीं
अजीब सी हो
चली है यह दुनिया
शब्दों की दुनिया
संवेदनाओं की दुनिया
भरोसे, उम्मीद की नजर से
देखी जाती थी यह दुनिया
कहे-सुने जाते सुना था हमने भी!


कैसे गाएं वह गीत

नहीं, यह वह सुबह नहीं
पंछियों की चहचह के गीत को
सुनने को तरसने लगे हैं कान
शीतल हवा की चाह में
मन मारे बैठा मन
हिलना-डुलना ही नहीं चाहते
न हरे-हरे पत्ते, न हाथ-पांव
नहीं, यह वह सुबह नहीं
चाहत में जिसकी खाई थीं-
लाठी-गोलियां, त्यागे थे प्राण
ओह, बनते गए तबके दर तबके
टूटते गए एकता के गान
नहीं, यह वह सुबह नहीं
दिन-ब-दिन बढ़ते जा रहे जिंसों के दाम
दिन-दिन होता जा रहा जीना हराम
हर रिश्ते पर भारी पड़ने लगा पैसा
हाय, आ गया अब यह दौर कैसा
नहीं, इस सुबह की तो नहीं की तमन्ना
जिसकी की थी, क्या पता आए कि न आए
कैसे गाएं ,वह सुबह कभी तो आएगी!

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.