ताज़ा खबर
 

गीत – फ्रिज में मेढक, मेरी पीठ खुजाओ

नागेश पांडेय ‘संजय’ के गीत।
Author July 2, 2017 02:21 am
प्रतीकात्मक चित्र।

 नागेश पांडेय ‘संजय’

फ्रिज में मेढक

गरमी पड़ी जोर की तो फिर
मेढक जी घबराए।
सूखा ताल छोड़ बेचारे,
इधर-उधर मंडराए।

खुला हुआ था मौसी का फ्रिज,
आसन वहां जमाया।
खुश हो टर्र-टर्र चिल्लाए,
फौरन गया भगाया।

मेरी पीठ खुजाओ

लोट-लोट कर बुरा हुआ जब,
बंदर जी का हाल।
कहा मदारी जी से- मेरी
बात सुनो तत्काल।

नहीं तमाशा मेरे वश का,
दूजा बंदर लाओ।
या फिर बैठो, रोज शाम को
मेरी पीठ खुजाओ।

नाई लोमड़ की दुकान पर

नाई लोमड़ की दुकान पर,
लगा हुआ थी टीवी।
फिल्म आ रही थी उस पर हां
एक लड़ाकू बीवी।

एक सीन में जैसे ही बीवी
कस कर गुर्राई,
कांपा हाथ और ग्राहक की
नाक कट गई भाई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.
सबरंग