January 19, 2017

ताज़ा खबर

 

सूजी, पोपो और जन्मदिन की पार्टी

घुंघराले वालों वाली सूजी एक प्यारी सी बच्ची थी। वह कक्षा चार में पढ़ती थी। उपासना बेहार की कहानी।

Author October 2, 2016 03:16 am
प्रतिकात्मक तस्वीर।

उपासना बेहार 

घुंघराले वालों वाली सूजी एक प्यारी सी बच्ची थी। वह कक्षा चार में पढ़ती थी। एक दिन सूजी अपने दोस्त अकबर के घर गई तो देखा कि उसके हाथ में सफेद रुई जैसे बिल्ली के दो छोटे बच्चे हैं। बच्चे बहुत ही सुंदर और नाजुक थे, इतने छोटे बिल्ली के बच्चों को उसने पहली बार देखा था। ‘कितने प्यारे बच्चे हैं, काश मेरे पास भी ये होते’, सूजी दुखी हो कर बोली। अकबर ने कहा, ‘इनमें से एक बच्चा तुम रख सकती हो, ये तुम्हारे जन्मदिन का उपहार है।’ कुछ दिनों बाद ही सूजी का जन्मदिन आने वाला था। ‘सच में’ मैं अभी घर जा कर मां को इसे दिखाती हूं। सूजी खुशी से चहक उठी और बिल्ली के बच्चे को लेकर घर की ओर दौड़ लगा दी। ‘मम्मी देखो, अकबर ने मुझे जन्मदिन में क्या उपहार दिया है।’

मम्मी ने उसके हाथ में सफेद छोटा सा बिल्ली का बच्चा देखा। सूजी ने खुश होते हुए कहा,‘मम्मी हम इसका नाम पोपो रखेगें।’ मम्मी ने तुरंत पोपो के लिए एक बक्से में कपड़े और रुई लगा कर घर बना दिया और उसे सूजी के कमरे में रख दिया। सूजी पोपो के साथ खेलने में लग गई। शाम को सूजी ने अपने दोस्तों को पोपो से मिलवाया।सूजी के जन्मदिन को एक दिन बाकी था, मम्मी ने उससे कहा कि वह अपने सभी दोस्तों को कल उसके जन्मदिन की पार्टी के लिए घर आने का न्योता दे आए। जब वह अकबर के घर गई तो अकबर ने कहा, ‘सूजी हमें पोपो का जन्मदिन भी मनाना चाहिए।’ सूजी सोच में पड़ गई। वह घर आई और मम्मी से कहा, ‘मम्मी मेरे जन्मदिन के दिन पोपो का भी जन्मदिन मनाएंगे। मम्मी उसकी बात सुन कर हंस पड़ी और कहा ‘जानवररों का भी कोई जन्मदिन होता है?’

‘मम्मी अगर हमारा जन्मदिन हो सकता है तो जानवरों का क्यों नहीं? वैसे भी पोपो जानवर नहीं है, वह मेरा सबसे अच्छा दोस्त है। सूजी दुखी हो गई। तब मम्मी ने कहा ‘ठीक है हम तुम्हारे जन्मदिन के साथ साथ उसका भी जन्मदिन मनाएंगे।’ सूजी ने खुश होकर कहा-‘थैंक यू मम्मी।’सूजी ने अपने जन्मदिन पर पोपो के बालों में कंघी की, गले में लाल रंग का फीता बांध कर उसे तैयार किया। धीरे-धीरे सूजी के सभी दोस्त आ गए। अब केक काटने का समय आ गयाथा। मेज पर एक बड़ा और एक छोटा केक का डिब्बा रखा था। सब सोच रहे थे कि ‘आज तो केवल सूजी का जन्मदिन है पर यहां तो दो केक रखे हैं,दूसरा कौन है जिसका आज जन्मदिन है?’

जब केक काटने का समय आया, तब सभी बच्चों ने कहा, ‘अंकल आज तो केवल सूजी का जन्मदिन है फिर ये छोटा वाला केक किसके लिए है?’ सूजी के पापा ने कहा ‘बच्चों अभी थोड़ी देर में पता चल जाएगा तब तक सूजी बड़े वाले केक को काटेगी?’। सूजी ने केक को काटा और सबने तालियां बजाई। फिर छोटा केक खोला गया जिसमें लिखा था, ‘जन्मदिन की बधाई पोपो।’ तब सब बच्चों के सामने छोटे केक का राज खुला। आज सूजी के साथ साथ पोपो का भी जन्मदिन मनाया जा रहा है। सभी बच्चे बहुत खुश हुए और बच्चों ने पोपो को भी जन्मदिन की बधाई दी और दो-दो केक खाने के मजे लिए। पोपो भी मियांऊ- मियाऊं करता बच्चों के आसपास घूमता रहा। १

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 2, 2016 3:16 am

सबरंग