December 05, 2016

ताज़ा खबर

 

जानकारी: सबसे लंबा छड़ी कीट

हमारे आसपास मच्छर, मक्खी, खटमल, कॉकरोच, बटरफ्लाई, ड्रैगनफ्लाई, स्टिक जैसे कीट घूमते ही रहते हैं।

Author October 30, 2016 01:57 am
अभी हाल ही में दक्षिण-पश्चिम चीन के सिचुआन प्रांत में मिले छड़ी कीट की नई प्रजाति ने ऐसा ही एक नया रिकार्ड बनाया है- सबसे लंबे कीट का।

हमारे आसपास मच्छर, मक्खी, खटमल, कॉकरोच, बटरफ्लाई, ड्रैगनफ्लाई, स्टिक जैसे कीट घूमते ही रहते हैं। आमतौर पर ये तीन से बीस मिलीमीटर या पच्चीस से तीस सेंटीमीटर तक लंबे होते हैं। लेकिन कुछ कीट इतने लंबे होते हैं कि सबको हैरत में डाल देते हैं और रिकार्ड कायम करते हैं। अभी हाल ही में दक्षिण-पश्चिम चीन के सिचुआन प्रांत में मिले छड़ी कीट की नई प्रजाति ने ऐसा ही एक नया रिकार्ड बनाया है- सबसे लंबे कीट का। इसने 2008 को मलेशिया में छड़ी कीट के बने पिछले रिकार्ड से भी बाजी मार ली है जो 56.7 सेंटीमीटर लंबा था और लंदन के प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय में आज भी है।

‘इंसेक्ट म्यूजियम आॅफ वेस्ट चीन’ के रिसर्च वैज्ञानिक झाओ ली ने अपनी दो साल की कड़ी मेहनत के बाद इसकी खोज की और उन्होंने इसका नाम रखा गया- फ्रिजनेस्ट्रिया चीनेन्सिस झाओ। यह छड़ी कीट 62.4 सेंटीमीटर लंबा है। वास्तव में इसका शरीर 36.1 सेंटीमीटर लंबा और तर्जनी उंगली जितना मोटा है। सबसे बड़ी खासियत है इसके पतले-पतले 6 पैर जोे लगभग उसके शरीर की लंबाई के बराबर होते हैं। ये पैैर उनके चलने और पकड़ बनाने में ही मदद नहीं करते, इसकी लंबाई को भी बढ़ाते हैं। हालांकि झाओ ली ने इस कीट की खोज चीन के गुआंगसी जुआंग के पहाड़ी क्षेत्र में 2014 में कर ली थी, लेकिन रिसर्च के बाद ही वे इसे सबके सामने लाए।

दुनिया भर के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में तीन हजार प्रकार के छड़ी कीट पाए जाते हैं। ये कीट वैसे ही दूसरों से काफी लंबे होते हैं, लेकिन फ्रिजनेस्ट्रिया चीनेंसिस झाओ की बात ही निराली है। ये तकरीबन बाजू या पूरे हाथ के बराबर होते हैं। जन्म के समय इनके बच्चे 26 सेंटीमीटर लंबे होते है। ये किसी पेड़ की पतली टहनी की तरह दिखते हैं, तभी तो वैज्ञानिक इन्हें चलने वाला कीट भी कहते हैं। अपनी इसी खूबी की वजह से ये छड़ी कीट आसानी से पेड़ों में छुप जाते हैं। इस तरह छलावरण या रूप बदल कर ये शिकारियों की नजरों में धूल झोंक कर अपना बचाव करते हैं। १

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

First Published on October 30, 2016 1:57 am

सबरंग