May 23, 2017

ताज़ा खबर

 

रविवारी

जानकारी- समुद्र में ज्वालामुखी

र्वी प्रशांत महासागर के तल में लगभग आठ हजार फुट नीचे ज्वालामुखी के फटने से यह बना है, जो कि पानी के भीतर का...

गीत- सूरज दादा रहम करो

माधव श्रीवास्तव की कविताएं।

कहानी- कछुए की सीख

जरा-जरा सी बातों पर नंदन वन के प्राणी एक-दूसरे से लड़ कर बैठ जाते हैं और फिर उनमें बोलचाल बंद हो जाती है।...

संकट में ‘हरा सोना’

उत्तराखंड के पहाड़ अपनी शीतलता, खूबसूरती और हरियाली के लिए जाने जाते हैं। लेकिन अनियोजित प्रबंधन, वन संपदा का अंधाधुंध दोहन और वनाग्नि की...

श्रम और शरीर

खेती जैसे श्रमसाध्य कार्यों पर निर्भर समाज की महिलाओं को क्या बदलते जीवन की चिंता करनी चाहिए? यह सवाल आज से पंद्रह-बीस साल...

मुद्दा- नसबंदी में पुरुष पीछे क्यों

आंकड़े बताते हैं कि घर-परिवार से जुड़ी इस अहम जिम्मेदारी को निभा रही नसबंदी या अन्य गर्भनिरोधक इस्तेमाल करने में अव्वल आधी आबादी, आज...

कविताएं: मैं सोचना चाहता हूं, काले में दाल

सदानंद शाही की कविताएं।

विमर्श- लीक पीटते नवगीतकार

एकल परिवारों और एकल बौद्धिकता के बदले इसमें सामूहिकता की मांग और संयुक्त परिवारों के संवेदन-अवशिष्ट भी थे।

कहानी- खामोश कारीगर

‘भला इतना महंगा वार्डरोब बनवाने की क्या जरूरत है हरिराम?’ अपने खर्चे से कुछ उकताया हुआ मैंने उससे पूछा। ‘जिनके पास पैसे कम हैं,...

लिपियों का रहस्यमय संसार

हमारे यहां कहावत भी है-कोस कोस पर पानी, बदले चार कोस पर बानी। खास बात यह है कि हमारे देश की कई लिपियां अब...

वक्त की नब्ज- समांतर अदालत तो न बिठाइए

पत्रकारों को कोई अधिकार नहीं है किसी को दोषी ठहराने का। अगर रिपब्लिक चैनल के पास सबूत हैं कि पुलिस को सुनंदा पुष्कर की...

जानकारी- एल्बेट्रास

उड़ने वाले पक्षियों में सबसे अधिक पंखों का फैलाव एल्बेट्रास का होता है, जो कि एक समुद्री चिड़िया है।

बाल कहानी- करनी का फल

नदी के तट से लगा एक बहुत सुंदर गांव है झरिया। चारों और लहलहाते खेत, मीठे और स्वादिष्ट फलों से लदे पेड़ इस गांव...

आत्महत्या का अधिकार

मृत्यु के अधिकार को लेकर तमाम देशों के न्यायविदों, नेताओं, चिकित्सकों और धर्मगुरुओं के बीच लंबे समय से बहस होती रही है। भारत में...

कविताएं: दुख आता है तो शायद

पंकज चतुर्वेदी की कविताएं।

विमर्श- संभव होने की अंतहीन धारा

समय-समाज की ऐतिहासिक-सांस्कृतिक परंपराओं से जुड़ जाते हैं, परंपराएं बदलती हैं तो ‘संकेत’ भी अपना प्रारूप बदल लेते हैं।

कहानी-जड़ों की तलाश

गले माह की चार तारीख को उनकी बंगलुरू की फ्लाईट है। अपनी पत्नी के साथ वे सुदीप्त के पास बंगलुरू जाएंगे।

बालमन – सीखने की प्रक्रिया

आधुनिक काल में बच्चों के सीखने और ज्ञानर्जन के लिए स्कूल और शिक्षक को ही सबसे महत्त्वपूर्ण माना जाता है।

सबरंग